जनपथ न्यूज़ बेगूसराय. केंद्रीय मंत्री और बेगूसराय से भाजपा के सांसद गिरिराज सिंह ने विवादास्पद बयान दिया है। लोहियानगर में बुधवार को एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि मिशनरी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे डीएम, एसपी, इंजीनियर तो बन जाते हैं। लेकिन जब विदेश जाते हैं, तो 10 में से 8-9 बच्चे गौमांस का सेवन करने लगते हैं। इसकी वजह यह है कि उन्हें वह संस्कार नहीं मिल पाता, जिसके आधार पर वे अपनी सनातन संस्कृति को पहचान पाएं। इसलिए जरूरी है कि बच्चों को बचपन से ही स्कूल में गीता का श्लोक और हनुमान चालीसा पढ़ाया जाए।
सनातन धर्म में कट्टरता की जगह नहीं
गिरिराज ने आगे कहा, “सनातन धर्म के चलते ही लोकतंत्र जिंदा है। उन्होंने कहा कि लोग हमें कट्टरपंथी कहते हैं, आखिर हम कहां से कट्टपंथी होने लगे। हमारे सनातन धर्म में कट्टरता का स्थान नहीं है। हमें सिखाया गया है कि चीटियों को गुड़ खिलाने से और पेड़ को पानी देने से पुण्य मिलता है। लेकिन हम जिस सांप को लगातार दूध पिला रहे हैं, वे ही हमें डसने का प्रयास कर रहे हैं।
ओवैसी पर लगाया था मुलसमानों को उकसाने का आरोप
इससे पहले गिरिराज ने 30 दिसंबर को एआइएमआइएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी पर मुसलमानों को उकसाने का आरोप लगाया था। गिरिराज ने कहा था कि एनआरसी और एनपीआर के नाम पर विपक्ष देश का माहौल खराब कर रहा है। विपक्ष देश में 1947 के पहले जैसी स्थिति पैदा करने की कोशिश कर रहा है। राहुल गांधी और टुकड़े-टुकड़े गैंग के लोग 1947 से पहले जैसी स्थिति बनाना चाहते हैं। वे देश को बांटना चाहते हैं। ओवैसी के चलते भारत के संविधान को गंभीर खतरा है। वह मुसलमानों को उकसा रहे हैं।
राहुल गांधी पर लगाया था देश को बांटने का आरोप
गिरिराज ने 26 दिसंबर को कहा था कि मुगलों और अंग्रेजों ने जो नहीं किया, वह राहुल गांधी, कांग्रेस और असदुद्दीन ओवैसी जैसे टुकड़े-टुकड़े गैंग के लोग कर रहे हैं। वे भारत को बांटने में लगे हैं। वे चाहते हैं कि देश में गृह युद्ध हो। गिरिराज ने कहा था कि ओवैसी जैसे लोग आस्तीन के सांप हैं। जब राष्ट्रगान होता है तब ओवैसी उठकर चल देता है। ओवैसी भारत को तोड़ना चाहता है। ये सभी लोग टुकड़े-टुकड़े गैंग हैं, जो पाकिस्तान का एजेंडा भारत में चला रहे हैं।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.