जनपथ न्यूज़ पटना. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एक बार फिर विवादित बयान दिया। बुधवार को बिहार के पूर्णिया में मीडिया से बातचीत के दौरान सिंह ने कहा- हमारे पूर्वजों से गलती हो गई। मुसलमान भाइयों को 1947 में ही वहां (पाकिस्तान) भेज दिया जाना चाहिए था। सिंह के मुताबिक, 1947 के पहले हमारे पूर्वज आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे, उसी वक्त मोहम्मद अली जिन्ना इस्लामिक स्टेट की योजना बना रहे थे।
गिरिराज के इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। सिंह ने ये भी कहा कि पूर्वजों की गलती का खामियाजा हमें आज उठाना पड़ रहा है।
राष्ट्र के प्रति समर्पण का समय
सिंह ने कहा, “राष्ट्र के प्रति समर्पित होने का समय आ गया है। ये बहुत बड़ी हमारे पूर्वजों से भूल हुई। इसका खामियाजा आज हम यहां भुगत रहे हैं। अगर उस समय मुसलमान भाइयों को वहां भेज दिया गया तो ये नौबत ही नहीं आती। अगर भारतवंशियों को यहां जगह नहीं मिलेगी तो दुनिया का ऐसा कौन सा देश है जो उन्हें शरण देगा।”
देवबंद आतंकवाद की गंगोत्री
देश के कुछ हिस्सों में सीएए का विरोध जारी है। इसी दौरान सिंह का यह बयान आया। 12 फरवरी को गिरिराज उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में थे। यहां उन्होंने कहा था, “देवबंद आतंकवाद की गंगोत्री है। दुनिया में आतंकवाद की घटनाओं का जुड़ाव देवबंद से ही रहा है। दुनिया में जितने भी आतंकवादी हुए हैं, या आतंकी घटनाएं हो चुकी हैं उनके तार कहीं न कहीं देवबंद से जुड़े रहे हैं। देवबंद से आतंकवाद को हमेशा समर्थन मिला है। आतंकवादी भी यहां आकर रुके हैं, चाहे हाफिज सईद का मामला हो या अन्य घटनाएं। हिंदुस्तान को पाकिस्तान का डर नहीं है, लेकिन देश के गद्दारों से खतरा है।”
शाहीन बाग पर भी दिया था विवादित बयान
गिरिराज ने 6 फरवरी को कहा था, “शाहीन बाग सुसाइड बॉम्बर (आत्मघाती हमलावर) का जत्था बनता जा रहा है। देश की राजधानी में देश के खिलाफ ही बड़ी साजिश चल रही है। शाहीन बाग में एक महिला का बच्चा ठंड में मर जाता है और वो महिला कहती है कि मेरा बच्चा शहीद हुआ है। ये सुसाइड बॉम्बर नहीं है तो और क्या है? अगर भारत को बचाना है तो ‘सुसाइड बम, खिलाफत आंदोलन-2’ से देश को सजग करना होगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.