पटना में चिटफंड कंपनी ने महिलाओं को लगाया करोड़ों का चूना……

न्यूज डेस्क पटना
जनपथ न्यूज
Edited by: राकेश कुमार
मार्च 23, 2022

पटना: पटना में साइबर क्राइम और धोखाधड़ी की घटनाएं बढ़ती जा रही है। ताजा मामला मनेर में चिटफंड कंपनी द्वारा करोड़ों की ठगी करने का सामने आया है। कंपनी ने महिलाओं को झांसा देकर बेटियों की शादी में सहयोग करने के नाम पर करोड़ों रुपये का चूना लगा दिया। ठगी की शिकार महिलाएं और कंपनी के एजेंट जब संचालक के आवास पर पहुंचे तो संचालक के परिजनों ने जान से मारने की धमकी देते हुए उन्हें भगा दिया।

सोमवार की देर रात काफी संख्या में महिलाएं इस मामले को लेकर मनेर थाना पहुंच गईं और हंगामा शुरू कर दिया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शेरपुर के एक शख्स द्वारा ह्यूमन लोक सेवा समिति नामक चिटफंड कंपनी बनाकर पटना के पालीगंज, नौबतपुर बिहटा के अलावा अरवल जिले के मेहंदीया, कुर्था के साथ रोहतास, जहानाबाद, गया, आरा और झारखंड के भी कई जिलों में कार्यालय खोले गए हैं। चिटफंड कंपनी अपनी महिला एजेंट के माध्यम से यह कहकर 1100 रुपये जमा करवाती थी कि बेटी जब 18 साल की हो जाएगी तो शादी में 50,000 रुपये की सामग्री कंपनी की तरफ से दी जाएगी।

बहुत सारे लोगो ने कई सालों से पैसे जमा भी करवाया था। जब कुछ लोगों की बेटी शादी की उम्र के लायक हो गई, तब शादी के लिए उन्हें पैसों की जरूरत पड़ी तब मुख्य कार्यालय से जुड़े एजेंटों से इनलोगों ने संपर्क साधा और शादी के लिए 50 हजार रुपए की सामग्री की मांग की, लेकिन उन्हें कुछ भी नही मिला। विभिन्न शाखाओं में काम करने वाले एजेंटों का भुगतान भी चिटफंड कंपनी ने बंद कर दिया था। इसके बाद सभी महिला एजेंट और महिलाओं ने संचालक के घर पर दबिश दी, लेकिन सभी को जान से मारने की धमकी के साथ दुर्व्यवहार कर भगा दिया गया।

इस चिटफंड कंपनी में काम करने वाली महिला एजेंटों ने बताया कि उन्होंने 98 लोगों से पैसे इकट्ठे कर चिटफंड कंपनी में जमा करवाया, लेकिन अब लोग उनके पीछे पड़े हुए हैं और पैसे की मांग कर रहे है।

महिलाओं ने बताया कि द्वारा ह्यूमन लोक सेवा समिति नामक चिटफंड कम्पनी द्वारा इन सभी पैसों को कार्टन में रखकर पटना लेकर चला जाता था। इन महिला एजेंटों को तीन से पांच हजार महीना चिटफंड कंपनी की तरफ से दिया जाता था और एक 1100 की वसूली पर भी अलग से 50 रुपये बोनस के तौर पर दिए जाते थे।

2 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published.