*अपराधियों की अब खैर नहीं*

जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना, भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
24 अगस्त 2022

भागलपुर : सूदखोरों, गुंडा बैंक संचालकों और अवैध रूप से संपत्ति अर्जित करने वाले धनाढ्य लोगों के बाद अब पुलिस की नजर रंगदारों पर है। एक तरफ जहां हाइकोर्ट के आदेश पर पुलिस मुख्यालय सूदखोरी, गुंडा बैंक से जुड़े और धनाढ्य लोगाें की जांच करा रही है। वहीं, भागलपुर जिला पुलिस ने इसी मामले को आगे बढ़ाते हुए अब रंगदारी से जुड़े कांडों में प्राथमिक व अप्राथमिक अभियुक्तों की सूची तैयार कर रही है।

*अभियुक्तों की सूची किया जा रहा है तैयार*
वरीय पुलिस अधिकारियों ने भागलपुर पुलिस जिला के सभी थानाध्यक्षों को उनके थानों में विगत कुछ वर्षों में दर्ज रंगदारी कांडों के प्राथमिक और अप्राथमिक अभियुक्तों की सूची तैयार करने का निर्देश दिया है। जिसमें फरार, गिरफ्तार, वर्तमान में विचाराधीन और ऐसे रिहा अभियुक्तों की सूची अलग अलग बनाने के लिये कहा गया है। इसके अलावा रंगदारी (एक्सटोर्सन) की धारा में दर्ज कांडों की अद्यतन स्थिति की मांग की गयी है। मिली सूचना के आधार पर पुलिस ऐसे लोगों को चिन्हित करने में जुटी है जिन्होंने जमीन खरीदने, मकान निर्माण करने या अधिक संपत्ति अर्जित करने वालों से रंगदारी की मांग की गई थी। वहीं, सूची में शामिल लोगों के आय और उनके संपत्ति की जांच भी की जा सकती है। कई लोग उक्त कार्रवाई को भागलपुर सहित सीमांचल में चल रहे धनाढ्य लोगों की जांच से भी जोड़ कर देख रहे हैं।

*सिटी एसपी के निर्देश पर थानों में कराया गया गुंडा परेड*
सिटी एसपी स्वर्ण प्रभात ने बताया कि सुरक्षा और विधि व्यवस्था के दृष्टिकोण से मंगलवार को सभी थानों को उनके यहां मौजूद गुंडा पंजी में शामिल लोगों को उपस्थित करा उनके सत्यापन का निर्देश दिया गया था। जिसके आधार पर मंगलवार को सभी थानों की पुलिस ने अपने-अपने थानों में गुंडा परेड का आयोजन कराया। इसके अलावा थानों को गुंडा परेड कराकर गुंडा पंजी को अपडेट करने का भी निर्देश दिया गया है।

*एसपी ने दिए निर्देश*
एसपी ने बताया कि निर्देश में कई ऐसे नये अपराधी जिन्होंने हाल फिलहाल कई आपराधिक घटनाओं या फिर शहर में शांति व्यवस्था काे भंग करने का प्रयास किया है उनके नाम को गुंडा पंजी में जोड़ा जाये। इसके अलावा यह भी निर्देश दिया गया है कि गुंडा पंजी में शामिल ऐसे लोगों को चिन्हित करने का निर्देश दिया गया है जो काफी वृद्ध हो चुके है या ऐसे लोग जिनकी मृत्यु हो चुकी है। ऐसे नामों को गुंडा पंजी से निकालने का निर्देश दिया गया है।

3 Views