Reported by: पटना संवाददाता/जनपथ न्यूज
Edited by: राकेश कुमार
अप्रैल 27, 2022
पटना: पटना में बुधवार दोपहर अनियोजित कार्यपालक सहायक सड़क उतर गए। नियोजन की मांग को लेकर वे बीपीएमएम कार्यालय पहुंचे और जमकर बवाल किया। इस दौरान एक कार्यपालक सहायक ने पुलिस के सामने ही अपने ऊपर केरोसिन डालकर आत्मदाह की कोशिश की लेकिन कोतवाली डीएसपी संजय कुमार सिंह सचिवालय थाना अध्यक्ष सीपी गुप्ता ने मौके पर पहुंचकर अभ्यर्थी को हिरासत में ले लिया और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठियां भी भांजी। हिरासत में लिए गए अभ्यर्थियों को पुलिस ने सचिवालय थाना भेज दिया। गिरफ्तार होने वाले अभ्यर्थियों के नाम सुजीत कुमार (छपरा), राहुल कुमार (समस्तीपुर), इंदल ठाकुर (मोतिहारी) शामिल हैं।
दरअसल, कार्यपालक सहायक पद की परीक्षा वर्ष 2018 में पूरी हुई। परीक्षा फल 2018 नवंबर तक जारी किया गया था, लेकिन इसके बावजूद अभी तक नियोजन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई है। हालांकि, कुछ लोगों की नियोजन की बात भी कही जा रही है। आरोप यह भी लगाया जा रहा है कि नियोजन में धांधली भी की गई है।
एक अभ्यर्थी ने बताया कि साल 2018 में कार्यपालक सहायक के लिए बिहार के अलग अलग जिलों में लगभग 1 हजार के करीब सीट पर बहाली निकली थी। इसके बाद मेरिट लिस्ट बनाया गया। इसमें हर जिले से 1 हजार अभ्यर्थियों को मेरिट लिस्ट में रखा गया था। इसके बाद हर जिले में आधे अभ्यर्थियों की बहाली उसी वक्त हो गया था और हम आधे अभ्यर्थियों की नियोजन नही की गई है। जिसके बाद हमलोग कब से प्रदर्शन करते आ रहे हैं। लेकिन अब तक हमारी नियोजन नहीं हुई। आज हमलोग यहां करो या मरो की लड़ाई लड़ने आए हैं।

2 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published.