फिजियोथेरिपिस्ट डॉ. राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह को पटना पुलिस ने लिया अपनी हिरासत में, जिम ट्रेनर विक्रम सिंह को गोली मरवाने का लगा आरोप

Edited by: राकेश कुमार
जनपथ न्यूज
सितंबर 18, 2021

पटना: फेमस फिजियोथेरिपिस्ट डॉ. राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह को पटना पुलिस ने अपनी कस्टडी में ले लिया है। पाटलिपुत्रा थाना की पुलिस इनके घर गई और सीधे दोनों को थाना लेकर चली आई। पिछले कई घंटे से दोनों को थाना में रखा गया है। इनके ऊपर जिम ट्रेनर विक्रम सिंह को गोली मरवाने का गंभीर आरोप लगा है।
सूत्रों के अनुसार डॉ राजीव सिंह की पत्नी का संबंध विक्रम सिंह से था, जिस कारण उस पर गोली चलवाई गई।

दरअसल, शनिवार सुबह कदमकुआं के बुद्धमूर्ति के पास अपराधियों ने जिस जिम ट्रेनर विक्रम सिंह को 5 गोली मारी थी, उसने गंभीर रूप से घायल होने के बाद भी पुलिस को दिए अपने बयान में फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह का नाम लिया। कदमकुआं थाना की पुलिस को दिए अपने बयान में विक्रम ने कहा है- ‘डॉक्टर ने जान से मारने की धमकी दी थी। आज अपने घर से निकला तो रास्ते में खड़े दो अपराधियों ने दोनों तरफ से फायरिंग कर दी।’

बयान में राजीव और उनकी पत्नी का नाम सामने आते ही SSP उपेंद्र कुमार शर्मा के आदेश पर पाटलिपुत्रा थाना की पुलिस उनके घर पहुंच गई। इसके बाद कस्टडी में लेकर थाने ले आई। शुरुआती तौर पर दोनों से पूछताछ भी की गई है। डॉक्टर ने कई सवालों का जवाब सीधे तौर पर नहीं दिया। वह बार-बार पुलिस को घुमाते रहे।

राजधानी में जिस हिसाब से जिम ट्रेनर के ऊपर जानलेवा हमला हुआ है, उससे पटना पुलिस भी हैरान है। वारदात की पटकथा यह बताती है कि किसी भयानक विवाद की वजह से ही इस कांड को अंजाम दिया गया। विक्रम को मौत की घाट उतारने के लिए सुपारी किलर्स का सहारा लिया गया। जब पटना पुलिस की टीम ने इसकी पड़ताल शुरू की तो वजह बहुत चौंकाने वाली सामने आई।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, फिजियोथेरेपिस्ट की पत्नी खुशबू सिंह और जिम ट्रेनर के बीच बहुत अच्छी जान-पहचान थी। इस बात की जानकारी जब राजीव सिंह को हुई तो उन्होंने विक्रम को धमकी देना शुरू किया। इस वजह से विक्रम, खुशबू से दूरी बनाने लगा था।

पटना पुलिस ने इस मामले की जांच करते हुए घायल जिम ट्रेनर का मोबाइल जब्त कर लिया है। इसके बाद पुलिस ने कॉल डिटेल्स को खंगाला। SSP उपेंद्र कुमार शर्मा के अनुसार, खुशबू और विक्रम के बीच इस साल के जनवरी से लेकर अब तक 1100 बार बात हुई है। इन दोनों के बीच लेट नाइट में भी कॉल पर बात हुई है। अधिकांश कॉल 30 से 40 मिनट के हैं। शुरुआती जांच में पुलिस को इस बात के भी सबूत मिले हैं कि इस साल 18 अप्रैल को पहली बार डॉ. राजीव ने कॉल कर विक्रम से सीधे तौर पर बात की थी। उसी दरम्यान उन्होंने उसे जान से मारने की धमकी दी थी। पूछताछ के दौरान बार-बार डॉक्टर और उनकी पत्नी अपना बयान बदल रहे हैं।

घायल विक्रम का छोटा भाई भी जिम ट्रेनर है। उसने बताया कि खुशबू सिंह जबरन उसके भाई के पीछे पड़ी हुई थी। “जब भाई से उसकी बात नहीं हो रही थी तो वो एक बार तो घर के नीचे पहुंच गई और रोने लगी थी और बहुत कुछ बोल रही थी। मुहल्ले के लोग भी देख रहे थे। वो हर हाल में भइया से बात करना चाहती थी। यह बात 3 से 4 महीने पहले की है। इसके बाद उसने एक बार रात के 12 बजे मुझे कॉल किया था। खुशबू सिंह की वजह से मेरे भइया को उसके पति डॉ. राजीव कुमार सिंह ने गोली मरवाई है”।

5 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published.