जनपथ न्यूज़ :-  बिहार के मोकामा शेल्टर होम से फरार हुई लड़कियों में से सातवीं को भी पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया है. जानकारी के मुताबिक उसकी बरामदगी मधुबनी से की गई है. सूबे के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने बताया कि इस मामले में आगे भी अनुसंधान जारी है. ADG ने मोकामा शेल्टर होम से युवतियों के फरार होने के मामले में कहा कि लड़कियां कैसे फरार हुई हैं ये फिलहाल पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हुआ है और फिलहाल इस मामले की जांच एसआईटी कर रही है.
जानकारी के मुताबिक, मोकामा स्थित नाजरथ शेल्टर होम से शनिवार की रात फरार हुईं सात लड़कियों में से छह लड़कियों को दरभंगा से बरामद कर लिया गया था. अब सातवीं लड़की को भी एसआईटी और रेल पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए मधुबनी से मंगलवार की देर रात बरामद कर लिया है. बताया जाता है कि बरामद सातवीं लड़की मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले की अहम गवाह भी है. इसी सातवीं लड़की ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर पर सीधे तौर पर रेप का आरोप लगाया था. साथ ही कहा था कि उसके हाथ-पांव बांधकर ब्रजेश ठाकुर रेप करता था.
पिछले शनिवार को मोकामा के शेल्टर होम में रह रहीं 7 लड़कियों के फरार होने से प्रशासन में हड़कंप मच गया था. घटना के बाद राज्य पुलिस मुख्यालय एक्शन में आ गई थी. एडीजी कानून-व्यवस्था अमित कुमार ने जोनल आईजी सुनील कुमार से मामले में रिपोर्ट तलब किया था.
वहीं, समाज कल्याण मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने कहा था कि पूरे मामले की गंभीरता से जांच होगी. दोषी किसी भी सूरत में बख्शे नहीं जाएंगे. स्पॉट पर भी अधिकारी लगातार जांच में जुटे हैं. जिला प्रशासन के साथ विभाग के अधिकारी लगातार छानबीन में जुटे हुए हैं.
बताते चलें कि मोकामा के नाजरथ अस्पताल द्वारा बालिका सुधार गृह का संचालन किया जाता है. फरार होने वाली सात लड़कियों में से पांच लड़कियां मुजफ्फरपुर कांड की पीड़िताएं थीं. जानकारी के मुताबिक सभी लड़कियां पिछले चार-पांच महीने से उसी शेल्टर होम में रह रही थीं. सुबह तीन बजे सभी ने मिलकर शेल्टर होम का ग्रिल

Leave a Reply

Your email address will not be published.