जनपथ न्यूज़ जमुई.  बाबा साहब ने हमें अवसर दिलाया है। हमें जरूरत है उस अवसर के अनुरूप आगे बढ़ने का प्रयास करने की। बाबा साहब के विचार, आदर्श सभी समस्याओं का निदान है। उनके विचारों को आत्मसात कर हमें ऊर्जा, शक्ति और हौसला मिलेगा। इससे आधुनिक समाज का निर्माण हो पाएगा।
हमें बाबा साहब के सपनों का भारत बनाने की दिशा में पहल करने की आवश्यकता है। सिर्फ प्रतिमा स्थापित करने से कुछ नहीं होगा, बल्कि उनके आदर्शों पर अमल कर ही समाज में बदलाव लाया जा सकता है। उक्त बातें रविवार को प्रखंड कार्यालय परिसर में स्थापित भारत रत्न बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा अनावरण समारोह के मौके पर अपर पुलिस महानिदेशक एके अंबेडकर ने कही।
एससी-एसटी कर्मचारी संघ द्वारा आयोजित इस समारोह का उद्घाटन अपर पुलिस महानिदेशक एके अंबेडकर, जीएसटी कमिश्नर रंजीत कुमार, आईजी ट्रेनिंग बिहार एके यादव, सीआरपीएफ कमांडेंट मुकेश कुमार, भागलपुर विश्वविद्यालय के कुलानुशासक विलक्षण रविदास, डॉ. भगवान दास आदि द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया। इसके बाद प्रतिमा अनावरण किया गया व संविधान की प्रस्तावना पढ़ी गयी। कार्यक्रम में अपर पुलिस महानिदेशक ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि बाबा साहब के आदर्शों पर अमल कर जब हम शिक्षित होंगे, संगठित होंगे तथा अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करेंगे तभी हमारा समाज आगे बढ़ेगा।
हजारों साल की लड़ाई के बाद मिला है हमें अधिकार: रंजीत
जीएसटी कमिश्नर भारत सरकार रंजीत कुमार ने कहा कि हजारों साल की लड़ाई के बाद बाबा साहब ने संविधान का निर्माण कर हमें अपना अधिकार दिलाया है। संविधान ने हमें पिछड़े पायदान से उठाकर सम्मानित दर्जा दिया है। संविधान के तहत स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व की बात कही गई है पर व्यवस्था के कारण हमें आज कितनी स्वतंत्रता, कितनी समानता और कितना प्रेम भाईचारा मिल रहा है यह किसी से छिपी नहीं है।
अंधविश्वास और अंध भक्ति से निकलें बाहर : एके यादव
आईजी ट्रेनिंग बिहार एके यादव ने कहा कि वर्तमान में कुछ राजनेता धर्म और संम्प्रदाय के नाम पर अपनी राजनीति चमकाते नजर आ रहे हैं। हमारे समाज को आज अंधविश्वास और अंधभक्ति से बाहर निकलने की आवश्यकता है। सोची समझी साजिश के तहत आधुनिक भारत के निर्माताओं में से बाबा साहब के योगदान को भुला दिया गया है। बाबा साहब ने संघर्ष, प्रतिभा और अदम्य साहस के बल पर व्यवस्था बदल सकी।
नागरिकों को न्याय दिलाने के लिए बना संविधान: विलक्षण
टीएमबीयू के कुलानुशासक विलक्षण रविदास ने कहा कि सभी नागरिकों को सामाजिक, राजनीतिक और धार्मिक न्याय दिलाने के लिए संविधान बना है। कार्यक्रम को पीएमसीएच के डॉक्टर भगवान दास, उमेश दास, सीआरपीएफ कमांडेंट मुकेश कुमार, आकाशवाणी के योगेश्वर नंदन, बीडीओ झाझा, बीडीओ सोनो रविजी, बीईओ रमाशंकर साह, एससी एसटी कर्मचारी संघ के जिला सचिव नंदकिशोर पासवान आदि ने भी संबोधित किया।
बड़ी संख्या में नक्सलियों ने किया था पूर्व में सरेंडर
एडीजे एके अंबेडकर ने बताया कि वर्ष 2007 में जब वो जिले के आरक्षी अधीक्षक थे तो उस समय यहां के सुदूरवर्ती इलाकों के लोग समाज की मुख्यधारा से बिल्कुल कटे थे। मैंने वैसे लोगों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का काफी प्रयास किया। उन्होंने बताया कि उस समय सबसे अधिक नक्सलियों ने सरेंडर किया था तथा मुठभेड़ भी काफी कम हुए थे। कार्यक्रम में स्थानीय कस्तूरबा विद्यालय की छात्राओं द्वारा स्वागत गान प्रस्तुत किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.