जनपथ न्यूज़ बिहार की राजधानी पटना का ऐतिहासिक गांधी मैदान एक बार फिर से राजनीतिक अखाड़ा बना है. आज चार नवंबर दिन रविवार को एक बार फिर से यहां सियासत करने को लोग तैयार हैं. इस बार गांधी मैदान में निषाद आरक्षण महारैला का आयोजन किया गया है. जो तस्वीरें हमारे पास पटना के गांधी मैदान से आ रही हैं, उसके मुताबिक ये महारैला बहुत बड़ा रूप लेने वाला है. शनिवार की देर शाम से ही पटना के गांधी मैदान में लोग जुटने लगे थे. और सुबह का नजारा कुछ ऐसा है कि सब तरफ सिर्फ लाल टोपी ही नजर आ रही है.
निषाद विकास संघ ने पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आज रविवार को ‘निषाद आरक्षण महारैला’ का आयोजन किया है. संघ के अध्यक्ष मुकेश सहनी ने दावा किया है कि यह रैली अभूतपूर्व होगी, जिसमें लाखों लोग भाग लेंगे. सहनी ने मीडिया से बातचीत में शनिवार को कहा कि इस रैली में राजनीतिक पार्टी के नाम की भी घोषणा की जाएगी. पत्रकारों के किसी गठबंधन में जाने के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि जो निषादों को हक दिलाएगा, हम उसके साथ जाएंगे.
पटना के गांधी मैदान में रैली से पहले ही मुकेश सहनी ने स्पष्ट किया कि उन्हें न राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से बैर है और ना ही महागठबंधन से. वे सिर्फ निषाद की हक की बात कर रहे हैं. इधर, आरक्षण महारैला को लेकर गांधी मैदान में संसद भवन की तर्ज पर भव्य मंच तैयार कराया गया है. आने वाले लोगों के रहने और खाने की व्यवस्था भी की गई है.
सन ऑफ मल्लाह के नाम से चर्चित सहनी ने कहा कि इस महारैला में बिहार के सभी जिलों से निषाद समाज के लोग पहुंचने वाले हैं. सहनी ने कहा कि गांधी मैदान में निषाद आरक्षण महारैला के जरिए निषाद समाज अपनी शक्ति प्रदर्शन कर सभी राजनीतिक दलों को यह बताएगा कि हमारे वोट के बिना कोई भी नेता जीत नहीं सकता है. इस रैली को लेकर संघ के झंडे और बैनरों से पटना की सड़कें पटी पड़ी हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.