*वक्त को बदलना है तो, ऑनलाइन खरीददारी बंद कीजिये, मंदी छू मंतर हो जाएगा*

जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना
Edited by: राकेश कुमार
9 सितंबर 2022

आज आप तमाम प्रबुद्धजन हमारे ‘जनपथ न्यूज ‘ में प्रकाशित मेरी इस रिपोर्ट को अवश्य पढ़ें और फिर इस पर सोच-समझकर निर्णय लें। क्योंकि यह रिपोर्ट सोचने का है और इसपर फैंसला भी आपको ही करना है, तो आईये इसे गौर से पढ़ें और यदि ये सारी बातें आपको ठीक लगे तो इस रिपोर्ट को पढ़ने के बाद इसे आगे शेयर करते चले जाएं क्योंकि ये बातें सबों के पास महज इसलिए पहुँचना चाहिये कि मंदी को लेकर एक-दुसरे के सिर पीटने की बजाय, वह खुद का सिर पीॆटकर खुद में बदलाव लाएं।

*मंदी क्यों है व्यापार में… ???*

• बर्तन का व्यापारी परिवार के लिये जूते ऑनलाइन खरीद रहा है।
• जूते का व्यापारी परिवार के लिये मोबाइल ऑनलाइन खरीद रहा है।
• मोबाइल का व्यापारी परिवार के लिए कपडे ऑनलाइन खरीद रहा है।
• कपड़े का व्यापारी परिवार के लिये घड़ी ऑनलाइन ख़रीद रहा है।
• घडी का व्यापारी बच्चों के लिए खिलोने ऑनलाइन ख़रीद रहा है।
• खिलोने का व्यापारी घर के लिये बर्तन ऑनलाइन खरीद रहा है और ये सभी हर रोज सुबह-सुबह अपनी-अपनी दुकानें खोल कर अगरबत्ती लगाते हुए भगवान से प्रार्थना करते हैं कि आज धंधा अच्छा हो जाये।

*कहाँ से होगी बिक्री… ???*

• खरीददार आसमान से नहीं टपकते, हम ही एक दूसरे का सामान खरीद कर बाजार को चलाते हैं, क्योंकि हर व्यक्ति कुछ न कुछ बेच रहा है और हर व्यक्ति कुछ न कुछ खरीद भी रहा है।
• ऑनलाइन खरीदारी करके आप भले 50-100 रु० की एक बार बचत कर लें, लेकिन इसके नुकसान बहुत हैं। क्योंकि ऑनलाइन खरीदारी से सारा मुनाफा बड़ी-बड़ी कंपनियों को जाता है, जिनमें काफी विदेशी कंपनियां भी शामिल हैं।
• ये कम्पनियाँ मुठ्ठीभर कर्मचारियों के बल पर बाजार के एक बहुत बड़े हिस्से पर कब्जा कर लेती हैं, ये कम्पनियां बेरोजगारी पैदा कर रही हैं और इनके द्वारा कमाये गये मुनाफे का बहुत छोटा हिस्सा ही पुनः बाजार में आ जाता रहा है।
• यदि आप सोचते हैं कि मैं तो कोई दुकानदार नहीं हूं और न ही व्यापारी , मैं तो नौकरी करता हूँ, ऑनलाइन खरीदी से मुझे सिर्फ फायदा है नुक्सान कोई नहीं तो आप सरासर गलत हैं. क्योंकि जब समाज में आर्थिक असमानता बढ़ती है या देश का पैसा देश के बाहर जाता है तो, देश के हर व्यक्ति को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से उसका नुक्सान उठाना पड़ता है, चाहे वह अमीर हो या गरीब, व्यापारी हो या नौकरी करने वाला,बीमा ऐजेंट, दुकानदार हो या किसान हर कोई प्रभावित होता है…
• हमारी बातों पर गौर करते हुए, अगर एक बार सब मिल कर ऑननलाइन खरीदारी करना बंद कर दें तो सब लोगो का काम अच्छा चल सकता है और फिर मंदी परास्त होगी।

7 Views