जनपथ न्यूज़ :- असम में नागरिकता संशोधन विधेयक (एसीबी) के खिलाफ दो छात्र संगठनों के राज्यव्यापी बंद के आह्वान किया. इसके बाद ब्रह्मपुत्र घाटी में जनजीवन ठप्प है. बंद का आयोजन स्थानीय आदिवासी दलों और नॉर्थ ईस्ट स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन (एनईएसओ) सहित युवा संगठनों की ओर से किया गया है. त्रिपुरा में सड़क और रेल यातायात बुरी तरह प्रभावित है और हजारों यात्री फंसे हुए हैं. बंद समर्थक कार्यकर्ताओं ने वाहनों और गाड़ियों को आगे नहीं बढ़ने दिया. बंद के 11 घंटे बाद इसका असर बंगाली बहुल बराक घाटी में कुछ खास नहीं रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो प्रदर्शनकारियों ने मालीगांव क्षेत्र में एक सरकारी बस पर पत्थरबाजी की और एक स्कूटर को आग के हवाले कर दिया.
अगरतला के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कई जिलों से आई खबरों के हवाले से कहा कि त्रिपुरा ट्राइबल एरिया ऑटोनॉमस डिस्ट्रिक्ट काउंसिल के क्षेत्रों में बैंक, शिक्षण संस्थान, दुकानें और बाजार अधिकतर स्थानों पर बंद रहे. शिक्षा विभाग, त्रिपुरा बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन और अन्य दो विश्वविद्यालयों त्रिपुरा यूनिवर्सिटी (केंद्रीय विश्वविद्यालय) और महाराजा बीर बिक्रम विश्वविद्यालय (त्रिपुरा सरकार के तहत) की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है. मिजोरम में 10 घंटे लंबे बंद के कारण जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. सरकारी कार्यालय, बैंक, शिक्षण संस्थान, दुकानें और बाजार मिजो नेशनल फ्रंट के शासन वाले राज्य में बंद हैं. सुरक्षा बलों के वाहनों को छोड़कर सभी प्रकार के वाहन सड़कों से नदारद रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.