जनपथ न्यूज डेस्क/पटना

Edited by: राकेश कुमार
5 अगस्त 2022

पटना: बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर जांच एजेंसियों को ”गुलाम” बनाने का आरोप लगाते करते हुए कहा कि उन्हें राजनीतिक विरोधियों को डराने-धमकाने का काम सौंपा गया है।

पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने मौजूदा केंद्र सरकार पर अटल-आडवाणी युग की ”शिष्टाचार” वाली विशेषता को समाप्त करने का भी आरोप लगाते हुए इस सप्ताह के अंत में केंद्र की नीतियों के विरोध में विरोध मार्च की घोषणा की। उन्होंने कहा कि विपक्षी महागठबंधन के सभी घटक दल सात अगस्त को विरोध मार्च में भाग लेंगे जो बिहार के सभी जिला मुख्यालयों पर निकाला जाएगा। तेजस्वी ने आरोप लगाया, ‘केंद्र की सरकार महंगाई और भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने और अपने किसी भी वादे को पूरा करने में विफल रही है और इसका खामियाजाआम जनता भुगत रही है, ऐसे में हम उनकी आवाज बनना चाहते हैं।’

तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि भाजपा खुलेआम अपने विरोधियों को खरीदने की कोशिश कर रही है और अगर भाजपा अपने चाल में विफल हो जाती है तो वह ”बांह मरोड़ने” का सहारा लेती है। राजद नेता ने यह भी आरोप लगाया कि एजेंसियां अपने राजनीतिक आकाओं की ”गुलाम” बन गई हैं, बड़ी मछलियों को पकड़ने में नाकाम रही है। तेजस्वी यादव ने पूछा कि वे नीरव मोदी, मेहुल चौकसी और विजय माल्या को क्यों नहीं पकड़ पा रहे हैं???