“जनपथ न्यूज डेस्क, पटना

Edited by: राकेश कुमार
1 सितंबर 2022

पटना: पटना में पुलिस को उस समय बिहार लोकसेवा आयोग के अभ्यर्थियों पर लाठी चार्ज करना पड़ा जब वो आयोग के दफ़्तर में जाने पर अड़े थे। दरअसल, ये सभी लोक सेवा आयोग की परीक्षा में नए मॉडल का विरोध कर रहे थे। बीपीएससी कार्यालय के बाहर अभ्यर्थियों का आंदोलन परीक्षा पैटर्न में बदलाव के विरोध में था। अभ्यर्थियों ने एक ही दिन और एक ही पाली में एग्जाम कराने की मांग की है। बीपीएससी की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थीयों के विरोध के बावजूद बिहार लोकसेवा आयोग ने स्पष्ट कर दिया है कि प्रारंभिक परीक्षा दो दिन ली जाएगी।

बता दें कि इससे पहले सूचना जारी हुई थी कि 804 पदों के लिए 67वीं बीपीएससी संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा 20 और 22 सितंबर को होगी। रिजल्ट परसेंटाइल सिस्टम के आधार पर आएगा। परीक्षा के एक सप्ताह पहले यानी 13 सितंबर तक अभ्यर्थियों के एडमिड कार्ड आयोग की वेबसाइट पर अपलोड कर दिए जाएंगे। पहली बार बीपीएससी ने परसेंटाइल सिस्टम लागू किया है। परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थियों को एक घंटे पहले प्रवेश दिया जाएगा।

बता दे कि जैसे ही बीपीएससी ने मंगलवार को नोटिफिकेशन जारी किया, बीपीएससी कार्यालय के बाहर करीब हजारों अभ्यर्थी परीक्षा पैटर्न में बदलाव होने के कारण प्रदर्शन करने लगे। उनकी मांगें हैं कि फॉर्म भरने के दौरान जो नोटिफिकेशन जारी किया गया था, उसमें किसी तरह का बदलाव नहीं किया जाए।

2 Views