झंझारपुर कोर्ट में घुसकर थानेदार और दारोगा ने दिखाई ‘गुंडई’, दोनों पुलिसकर्मियों ने कोर्ट के एडीजे के साथ मारपीट कर तानी पिस्टल
राकेश कुमार/जनपथ न्यूज
नवम्बर 19, 2021
बिहार के मधुबनी जिले के झंझारपुर व्यवहार न्यायालय में घोघरडीहा थानेदार गोपाल कृष्ण और एएसआई अभिमन्यु कुमार ने एडीजे प्रथम अविनाश कुमार के चैंबर में घुसकर उनकी जमकर पिटाई कर दी। जज ने एक महिला की याचिका पर एसपी को कानून का पाठ पढ़ाते हुए ट्रेनिंग के लिए भेजने की बात सरकार को पत्र लिखकर कही थी। इसी कारण खाकी अपनी ताकत दिखाने पर उतर आई और यह करतूत की। सूचना के बावजूद आला पुलिस अधिकारी मामले को दबाने में लगे रहे, लेकिन वकीलों ने कार्रवाई की मांग लेकर कोर्ट का काम ठप कर दिया। वहीं पटना उच्च न्यायालय ने न्यायाधीश अविनाश कुमार पर हमले का स्वत: संज्ञान लेते हुए बिहार के डीजीपी को 29 नवंबर को मामले की सुनवाई के दौरान मौजूद रहने का निर्देश दिया है।
बृहस्पतिवार दोपहर करीब 2.15 बजे जज के चैंबर में शोर-शराबा सुनकर वकील दौड़कर पहुंचे तो देखा कि दो खाकीधारी एडीजे प्रथम अविनाश कुमार पर पिस्टल तानकर भद्दी-भद्दी गालियां देते हुए मारपीट कर रहे हैं। उन्हें बचाने पहुंचे कर्मचारी चंदन कुमार को भी उन्होंने पीटकर लहूलुहान कर दिया। जज लोक अदालत के भी अध्यक्ष हैं। एक महिला की शिकायत पर उन्होंने डीजीपी, होम मिनिस्ट्री, राज्य और केंद्र सरकार को खत लिखकर कहा था कि मधुबनी के एसपी को कानून के साथ-साथ आपराधिक मामलों में सुसंगत धारा लगाने की सही जानकारी नहीं है। लिहाजा उन्हें आईपीएस ट्रेनिंग सेंटर हैदराबाद में प्रशिक्षण के लिए भेजा जाए।
आपको बता दें कि एडीजे अविनाश कुमार अपने फैसलों के लिए मशहूर हैं और कुछ दिन पहले ही उन्होंने पुलिस विभाग पर सख्त टिप्पणी करते हुए कहा था की एसपी को कानून की जानकारी नहीं है और उन्हें प्रशिक्षण लेने का आदेश दिया है। खबर के मुताबिक इसी को लेकर दोनों पुलिसकर्मी नाराज थे और जज पर भड़के हुए थे।

3 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published.