जून से अब तक 13 लोगों की हुई हत्या

जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना
Edited by: राकेश कुमार
www. janpathnews.com
12 नवम्बर 2022

भागलपुर : संपत्ति विवाद लोगों की मौत की वजह बन रही है। भागलपुर जिले में जमीन व पैसे के लेनदेन के विवाद में हो रही हत्याओं का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। संपत्ति के विवाद में आरोपी रिश्ते-नाते को भी धत्ता बताते हुए लालच में अपने ही सगे-संबंधियों की जान ले रहे हैं।

कहीं सिर्फ तीन फीट के रास्ते के लिए चाचा अपने भतीजे की जान ले लेता है तो कहीं दो बीघा जमीन हड़पने के लिए देवर अपनी ही भाभी को गोली मारकर हत्या कर देता है। एक जून से लेकर 9 नवंबर तक जमीन व पैसे के लेनदेन के विवाद में 13 लोगों की हत्याएं की जा चुकी हैं। जबकि तीन लोगों पर जानलेवा हमला किया गया है। एक व्यक्ति से हथियार के बल पर जबरन जमीन लिखवाने का भी प्रयास किया गया। आरोपी ऐसी घटनाओं को योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दे रहे हैं। पुलिस हत्या के बाद नींद से जागती जरूर है, मगर समय बीतने के साथ जल्दी ही सुस्त पड़ जाती है। हर मामले में घटना में संलिप्त एक दो आरोपी को गिरफ्तार कर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है।

हत्या के अगले दिन से कुछ हफ्तों तक पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी के बाद फिर से अपने पुराने ढर्रे पर लौट आती है। नाथनगर में सिल्क कारोबारी अफजाल हत्याकांड में अभी तक मुख्य आरोपी मो. इरशाद समेत चार शूटर फरार हैं।
बबरगंज में जमीन कारोबारी अमरेंद्र सिंह हत्याकांड में मुख्य आरोपी करकु यादव समेत सात आरोपी अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है। जब तक पुलिस की कार्रवाई का इन आरोपियों के मन में खौफ नहीं होगा, इस तरह की वारदातों पर रोक लगाना मुश्किल है।

*जून से अबतक जमीन व पैसे के लेनदेन के विवाद में हुईं हत्याएं*

3 जून : बरारी थाना क्षेत्र के बड़ी खंजरपुर स्थित विषहरी स्थान की रहने वाली 60 वर्षीय बुधो देवी पर अपराधियों ने खल व चूल्हे से वार कर घायल कर दिया था। उसके बाद साड़ी से हाथ-पाव बांधकर उसको चौंकी के नीचे घुसा दिया एवं बाहर से घर मे ताला लगा दिया था। पुलिस ने संपत्ति विवाद को कारण मानते हुए पड़ोस में रहने वाली एक महिला को हिरासत में लिया था।

15 अगस्त : सुल्तानगंज थाना क्षेत्र के तिलकपुर गांव निवासी कमलेश्वरी यादव को अपने बासा पर चूल्हा जलाने के दौरान अपराधियों ने गोली मार दी थी। गोली मारने के पीछे की वजह जमीन का पुराना विवाद था। घायल वृद्ध के बेटे ने गांव के ही दो लोगों को आरोपित बताया था।

14 सितंबर : नाथनगर थाना क्षेत्र के केबी लाल रोड निवासी सिल्क कारोबारी मो. अफजाल अंसारी को बीच सड़क पर छह अपराधियों ने गोलियों से छलनी कर दिया था। इस मामले में परिजनों ने अफजाल के चचेरे ससुर मो. इरशाद पर जमीन विवाद में हत्या का आरोप लगाया था। पुलिस ने इस मामले में सुपारी लेने वाले दो शूटरों को गिरफ्तार किया था।

24 सितंबर : बबरगंज थाना क्षेत्र के बागबाड़ी मोहल्ले में जमीन कारोबारी अमरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या के पीछे की वजह जमीन प्लाटिंग से जुड़ा विवाद था। हत्या का मुख्य आरोपी करकु यादव और अमरेंद्र सिंह पहले साथ ही जमीन के कारोबार से जुड़े हुए थे। लेकिन बाद में विवाद होने पर करकु ने अमरेंद्र की हत्या कर दी। इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है, लेकिन मुख्य आरोपी समेत सात अपराधी अभी भी फरार चल रहे हैं।

अक्टूबर : सजौर थाना क्षेत्र के हाजीपुर पंचायत में रब्बिचक निवासी 19 वर्षीय मनीष ठाकुर की महज तीन फीट के रास्ते के लिए उसके चाचा व चचेरे भाई ने लाठी-डंडे से मारकर घायल कर दिया था। इलाज के क्रम में उसकी मौत हो गयी। मृतक के भाई के बयान पर पांच लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की गयी थी।

9 नवंबर : पीरपैंती प्रखंड के परशुराम गांव के जब्दी बासा में खेत में बुआई के दौरान अपराधियों ने चाचा निशांत उर्फ मोनू एवं भतीजा अल्टेकर की गोली मार कर हत्या कर दी थी। हत्या के पीछे जमीन विवाद बताया गया था। इस मामले में भी अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

9 नवंबर : हबीबपुर थाना क्षेत्र के शाहजंगी नवटोलिया गांव में महिला रानी देवी की सिर में गोली मारकर हत्या कर दी गई। हत्या के पीछे दो कट्ठे जमीन का विवाद बताया जाता है। इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।

 192 total views,  3 views today