जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: जितेन्द्र कुमार सिन्हा
Edited by: राकेश कुमार
www.janpathnews.com
12 नवम्बर 2022

पीएचडीसीआई बिहार चैप्टर और डीजीएफटी कोलकाता ने नॉलेज पार्टनर चंद्रगुप्त प्रबंधन संस्थान पटना के सहयोग से सीआईएमपी ऑडिटोरियम पटना में निर्यात बंधु योजना के तहत निर्यात जागरूकता पर क्षमता निर्माण कार्यक्रम का आयोजन किया। निर्यात जागरूकता कार्यक्रम में बिहार के 180 से अधिक निर्यातकों ने भाग लिया।

कार्यक्रम में बिहार चैप्टर के अध्यक्ष पीएचडीसीसीआई सत्यजीत सिंह ने उपस्थित सभी लोगों का स्वागत किया। मुख्य अतिथि डीवाई डीजीएफटी आरए कोलकाता आनंद मोहन मिश्रा को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया।

कार्यक्रम का उद्घाटन डीवाई डीजीएफटी आनंद मोहन मिश्रा ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया और निर्यात बंधु योजनाओं पर प्रस्तुति दी। उन्होंने निर्यात के लिए आवश्यक निर्यात दस्तावेज और उन दस्तावेजों को प्राप्त करने के तरीकों के बारे में भी जानकारी दी।

उन्होंने भारत और अन्य देशों के बीच विभिन्न मुक्त व्यापार समझौतों पर प्रकाश डालते हुए निर्यातक समुदाय से एफटीए का लाभ लेने का अनुरोध किया।

एपीडा के आनंद ने एपीडा की विभिन्न निर्यात प्रोत्साहन योजनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला और सदस्यों को निर्यात शुरू करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने बिहार राज्य के नवोदित निर्यातकों की हैंडहोल्डिंग का बीमा भी किया।

कार्यालय प्रभारी, सिडबी बिहार प्रदीप झा ने निर्यात वित्त और सिडबी की विभिन्न योजनाओं के बारे में बात की और सदस्यों को इन योजनाओं का लाभ लेने के लिए प्रोत्साहित किया। निदेशक सीआईएमपी बिहार स्टार्ट अप जो नीति के समिति सदस्य भी हैं, डॉ. राणा सिंह ने बिहार स्टार्टअप नीति और बिहार के स्टार्टअप को इसके लाभ के सन्दर्भ में प्रस्तुति दी। उन्होंने अद्वितीय विचारों और उत्पादों के साथ युवा उद्यमियों को आगे आने और बिहार स्टार्टअप नीति में प्रदान किए गए लाभों को लेने के लिए प्रोत्साहित किया।

पीएचडीसीसीआई बिहार चैप्टर के अध्यक्ष सत्यजीत सिंह ने सभी वक्ताओं को धन्यवाद दिया और बिहार उद्योग के लिए उनके समय की सराहना के प्रतीक के रूप में क्षण प्रस्तुत किया।

पीएचडीसीसीआई बिहार चैप्टर के रेजिडेंट डायरेक्टर प्रणब सिंह ने कार्यक्रम का समापन किया।
——–

 135 total views,  3 views today