जनपथ न्यूज डेस्क

Reported by: गौतम सुमन गर्जना, भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
15 सितंबर 2022

भागलपुर : बिहार के भागलपुर जिले के नाथनगर थाना क्षेत्र के मोमिन टोला निवासी अफजल नाम के युवक की अपराधियों ने नाथनगर के ज्ञान सरोवर पुस्तक दुकान के समीप गोली मारकर हत्या कर दी है, माहौल तनावपूर्ण है। मौके पर पुलिस के अधिकारी कैम्प कर रहे हैं। यह वारदात बुधवार की देर रात अंजाम दिया गया है। मृतक अफजल सिल्क व्यवसाई बताया जा रहा है।

*घटनास्थल का जांच करने पहुंची एफएसएल की टीम*
घटनास्थल पर 11 खोखे मिले हैं। मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि 9 राउंड गोलियां चलाई गईं है। वहीं, तीन से चार गोलियां एक दुकान के पास से मिली हैं। अफजल को गोली लगते ही उसे मायागंज अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई।

*भागलपुर में बढ़ा क्राइम का ग्राफ*
विदित हो कि भागलपुर में इन दिनों क्राइम का ग्राफ तेजी के साथ बढ़ता हुआ दिख रहा है। बीते दो दिन पहले जोगसर थाना क्षेत्र के चंडी प्रसाद लेन स्थित श्रीनिकेतन अपार्टमेंट के गार्ड पुरुषोत्तम उर्फ चुल्हो की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। इस दौरान बदमाशों ने पुरुषोत्तम के साथी साजन का भी गला रेत दिया था।

*बेगूसराय गोलीकांड के बाद बढ़ाई गई चौकसी लेकिन…*

गौरतलब हो कि बेगूसराय में बाइक सवार अपराधियों की लोगों पर अंधाधुंध गोलीबारी करने की वारदात के बाद भागलपुर जिले में भी पुलिस की चौकसी बढ़ा दी गई थी। सभी थाना क्षेत्र के महत्वपूर्ण चौंक-चौराहे पर पुलिस बलों की प्रतिनियुक्ति कर दी गई है। वाहनों की तलाशी और रोको-टोको अभियान को भी गति दे दी गई है। एसएसपी बाबू राम ने सभी थानाध्यक्ष को साफ-साफ कह दिया है कि गश्ती व्यवस्था में किसी किस्म की ढिलाई पाई गई तो ऑन स्पाॅट कार्रवाई की जाएगी। दिन-रात की गश्ती में किसी थाना क्षेत्र में गश्ती करने में कोताही सामने आने पर गश्ती दल में शामिल पुलिसकर्मियों और पदाधिकारियों के अलावा संबंधित थानाध्यक्ष भी कार्रवाई के दायरे में आने वाले हैं।

एसएसपी ने बीट पुलिसिंग को लेकर भी आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है, ताकि थाना क्षेत्र के सभी महत्वपूर्ण बीट पर तैनात पुलिसकर्मी अपनी बीट ड्यूटी में किसी तरह की लापरवाही न कर सकें। पुलिसकर्मियों और पदाधिकारियों को पुलिस केंद्र में गश्ती कैसे करें, गश्ती के दौरान किस तरह की चौकसी बरतें, किन पहलुओं पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है, इसकी बाकायदा ट्रेनिंग कराने की भी बात एसएसपी ने कही है। गश्ती दल जिन तय क्षेत्र में दिखाई नहीं दी तो उस क्षेत्र की गश्ती दल में शामिल पुलिसकर्मी और पदाधिकारी के साथ-साथ थानाध्यक्ष को भी इसके लिए लापरवाह मानते हुए दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। एसएसपी ने कहा कि वह स्वयं क्षेत्र में भ्रमणशील रहकर गश्ती व्यवस्था का हाल जान रहे हैं।

सिटी एसपी, एएसपी, डीएसपी मुख्यालय-एक और दो के अलावा एसडीपीओ भी अपने क्षेत्र में भ्रमणशील रहकर गश्ती व्यवस्था का न सिर्फ हाल जानेंगे बल्कि उसकी यथास्थिति की सूचनाएं भी व्हाट्सएप से देंगे। एसएसपी ने कहा कि जिले के सभी प्रवेश सीमा पर चौकसी बढ़ा दी गई है। परंपरागत रूप से शराब तैयार करने वाले कुछ इलाके में पुलिस की लगातार दबिश से वहां शराब तैयार होना बंद हो गया। पुलिस की चौकसी से शराब लाने वालों ने तरीका बदला तो पुलिस भी उनकी रणनीति भांप उन्हें गिरफ्तार करने के लिए जिले के प्रवेश सीमा पर ही उन्हें गिरफ्तार करने को जाल बिछाने लगी, जिसका लाभ भी अभियान में मिलने लगा है।

7 Views