जनपथ न्यूज डेस्क

Reported by: गौतम सुमन गर्जना, भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
3 अक्टूबर 2022

भागलपुर : जो लोग फ़कीरी मिजाज रखते हैं, वो सिर पर जन आशीर्वाद रखते हैं; जिनको कल की फ़िक्र है,वो मुटठी में आज रखते हैं। बिहार के उज्जवल भविष्य, युवा तुर्क उप-मुख्यमंत्री आदरणीय नेताजी तेजस्वी प्रसाद यादव जी की मनमोहक, जनसेवक छवि को देखिए.आपने बिहार विधान सभा को गौरवान्वित करते हुए उनको नेता प्रतिपक्ष के पद पर सुशोभित होते हुए भी देखा ही है। कर्पूरी ठाकुर जी के बाद ये दुसरे ऐसे नेता प्रतिपक्ष थे, जिनके कार्यकाल में 16वीं बिहार विधान सभा में “कार्यस्थगन” प्रस्ताव स्वीकृत हुआ था। आज उप-मुख्यमंत्री के पद पर आसीन होकर आपके भविष्य को उज्जवल बना रहे हैं।
बिहार विधान सभा चुनाव 2020 के दौरान देश में भाजपा द्वारा फैलाये गए”धार्मिक उन्माद”,”झूठे राष्ट्रवाद” को समाप्त कर रोजगार को मुद्दा बनाने के साथ भाजपा को हथियार डालने पर मजबूर करने वाले यशस्वी नेता जी बिहार को उपहार में मिले हैं। आपकी चिंता को, आपकी तकलीफ को, आपकी जरूरत को, आपकी आशा-उम्मीदों को कर्तव्य मानकर जनसरोकार के लिए तेजस्वी यादव जी ने आदरणीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार बनाई है और यह आपकी ही सरकार है। भारत का लोकतंत्र लंबे समय तक युवा तुर्क आदरणीय उप-मुख्यमंत्री जी के कंधो पर फलता-फूलता रहेगा। देश का लंबा इतिहास बनने की राह पर है, क्योंकि कोई इतिहास लिखने और बदलने कि चाह लेकर इस एतिहासिक सफर पर निकला है। कहते हैं, न आपकी परछाईं आपके कदमो के निसान के साथ आपके साथ चलती है, ठीक उसी तरह लोकतंत्र मे “राजनीति के शिलापट” पर आपके कर्मो के निसान लिखते जाते हैं। आदरणीय नेताजी बार-बार जिक्र करते है “मेहनत का कोई शार्टकट नही होता है” और जब आपका सफर लंबा है तो “संघर्ष भी उतना ही लंबा होगा”। आपको जल्दीबाजी में कोई भी निर्णय नही लेना चाहिए।

बाहूबली एक फिल्म आई थी, जिसमें एक डायलॉग था “मेरा वचन ही है शासन”। नेताजी के “कमिटमेंट” की चर्चा आज बिहार की गलियों के साथ-साथ पूरे देश में हो रही है। लोग अपनी भाषा में कहते हैं, कि तेजस्वी झूठ नै बोलै छै, जे सच होय छै, ऊ वही बात बोलै छै, कुच्छु कही लेॅ, ऊ “कमिटमेंट” के पक्का आदमी छै, तेजस्वी बड्डी बढ़िया नेता छै। प्रेम, आशीर्वाद और सौहार्द की भाषा कैसी भी हो, आपको समझ पूरी आ जाती है। ऐसे ही समाजवादी संस्कार और सरोकार के धनी है नेता तेजस्वी यादव जो लगातार अपनी आभा से समाजवाद को सुगंधित कर रहे हैं।

जब आप अपने कंधो पर परिवार के साथ जन उम्मीद का भार लेकर आगे बढ़ते हैं तो आपके बुलंद हौसले आपके रास्ते की कठिनाईयो को दुर करने मे मदद करते हैं। नेताजी अपने पुत्र धर्म का निर्वहन भी बहुत जिम्मेदारी के साथ किये हैं। अपने बिमार पिता समाजवाद के अखंडित मीनार आदरणीय गरीबो के मसीहा लालू प्रसाद यादव की सेवा के साथ उनके दिखाए रास्तों पर चलकर हर मंजिल को हासिल कर रहे है। जिन रास्तों पर वो चले थे, उन्हीं रास्तो पर अविचल चलते जा रहे है। परिवार के साथ-साथ पार्टी, कार्यकर्ता, नेता, सरकार और समाज को भी संभाल रहे हैं.लोग बोलते हैं कि तेजस्वी जी एक “जिम्मेदार बेटा के साथ,एक जिम्मेदार नेता भी” हैं।

कहते हैं न कि “सफलता उम्र की मोहताज नही होती” मेहनत से हासिल की जाती है और मेहनत से हासिल की गई सफलता शोर जरूर मचाती है। राजनीति के हर मैदान मे विरोधियों का छक्का छुड़ा देने की महारत इन्होंने हासिल कर लिया है। अब तो एक जिम्मेदार उप-मुख्यमंत्री के पद पर आसीन होकर विकास को गति देकर अपनी छाप छोड़ रहे हैं। बिना भेदभाव के नौकरी/रोजगार दे रहे है, नौकरी/रोजगार की बात कर रहे है, आपके भविष्य को उज्जवल और सुरक्षित बना रहे हैं। बिहार मे नौकरी/रोजगार की बाढ़ आ गई है.अब हर जुबान पर नौकरी/रोजगार है, नियुक्तियों की सूचना और जानकारी से भरा अखबार है, और इसकी खबर सुनकर खुशहाल हर घर-परिवार है। अब क्या चाहिए, मुस्कराइए आप रोजगार वाली सरकार में है.
बिहार रो पढ़लो-लिखलो युवा सब्भे नौकरी से प्यार करै छै,
ओकरा जे सुनिश्चित करै छै, ऊ तेजस्वी यादव छेकै।

 57 total views,  3 views today