जनपथ न्यूज डेस्क

Reported by: गौतम सुमन गर्जना, भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
10 अगस्त 2022

भागलपुर : पिछले छह माह से एनएच-80 के मुंगेर-मिर्जाचौकी रोड का निर्माण फॉरेस्ट क्लीयरेंस के पेच में फंसा है। सदियों से बदहाल इस हाइवे की सूरत नहीं बदल रही है। एनएच-80 की रोड का निर्माण दो पैकेज में होना है, जिसमें मुंगेर के घोरघट से नाथनगर के दोगच्छी एवं जीरोमाइल से मिर्जाचौकी तक शामिल है। दोनों पैकेज के लिए ठेका एजेंसी का चयन हो गया है। फॉरेस्ट क्लीयरेंस नहीं मिलने से दोनों एजेंसी को वर्क ऑर्डर जारी नहीं हो सका है। मंत्रालय से केवल एकरारनामा साइन हुआ है।

  1. *वन विभाग से एनओसी मिलने का इंतजार*
    भागलपुर-जीरोमाइल से मिर्जाचौकी सड़क का ठेका अरुणाचल प्रदेश की टीटीसी इंफ्रा इंडिया और राजस्थान की एमबी कंस्ट्रक्शन को घोरघट (मुंगेर) से नाथनगर दोगच्छी के बीच सड़क बनाने का काम मिला है। एजेंसियां सड़क निर्माण कार्य की तैयारियां पूरी कर ली है, लेकिन वन विभाग से एनओसी मिलने पर ही हाइवे का निर्माण शुरू हो सका है।

*883.76 करोड़ से हाइवे को दो साल में किया जायेगा 10 मीटर चौड़ा*
मुंगेर-मिर्जाचौकी को दो साल में 10 मीटर चौड़ा किया जाना है। इस पर 883.76 करोड़ खर्च आयेगा। वर्तमान में यह हाइवे सघन बसावट वाले क्षेत्रों से गुजरती है। कुछ जगह पर इस सड़क की चौड़ाई 5.5 मीटर तो कुछ जगह पर 7 मीटर है। मुंगेर-मिर्जाचौकी एनएच-80 से पत्थरों की आवाजाही होती है और भारी-बड़े ट्रकों का संचालन होता है और इससे भागलपुर शहर में भी आये दिन जाम की भीषण समस्या रहती है।

*कंक्रीट से बनेगा नया हाइवे* जीरोमाइल से खानकिता के बीच 12 मीटर चौड़ीकरण होगी। इस परियोजना के लिए 971 करोड़ की स्वीकृति मिली है। हाइवे का निर्माण कंक्रीट से होगा। एनएच विभाग के अधिकारी का दावा है कि वन विभाग की बैठक में कुछ बिंदुओं पर आपत्ति जतायी गयी थी।

 78 total views,  3 views today