जनपथ न्यूज डेस्क/पटना
Reported by: गौतम सुमन गर्जना
Edited by: राकेश कुमार
www.janpathnews.com
10 नवंबर 2022

भागलपुर : बिहार के बेरोजगार युवकों के लिए एक खुशखबरी है। दरअसल,आगामी 23 दिसंबर तक यानी अगले 42 दिनों के अंदर राज्यभर में 31 रोजगार मेले का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए नियोजन विभाग ने जिलावार कैलेंडर जारी कर दिया है।

नेशनल करियर सर्विस पोर्टल पर निबंधन जरूरी : श्रम संसाधान विभाग के निदेशक अरुण कुमार ठाकुर ने कहा कि नियोजन मेले में भाग लेने वाले नियोजकों व बेरोजगारों का नेशनल करियर सर्विस पोर्टल पर निबंधन जरूरी होगा। इसके अलावे अभ्यार्थी और नियोजकों के लिए ऑन द स्पॉट निबंधन की सुविधा उपलब्ध करायी जाएगी।

*नवंबर माह में इन जिलों में लेगगा कैंप* : बेतिया – 15 नवंबर, मुजफ्फरपुर- 16-17 नवंबर, वैशाली- 18 नवंबर, सीवान- 19 नवंबर, गोपालगंज- 21 नवंबर, भागलपुर- 22-23 नवंबर,
मुंगेर- 24-25 नवंबर, मोतिहारी- 25 नवंबर, औरंगाबाद- 26 नवंबर, सहरसा – 28-29 नवंबर और नालंदा- 30 नवंबर।

दिसंबर में इन जगहों पर लगेगा रोजगार कैंप : नवादा- 1 दिसंबर, डालमियानगर- 02 दिसंबर, बांका- 03 दिसंबर, अरवल- 05 दिसंबर, जहानाबाद- 06 दिसंबर, पूर्णिया- 07-08 दिसंबर, जमुई- 08 दिसंबर,बक्सर- 09 दिसंबर,भोजपुर- 10 दिसंबर, कटिहार- 11 दिसंबर,अररिया- 12 दिसंबर,किशनगंज- 13 दिसंबर, छपरा- 14 दिसंबर, लखीसराय- 16 दिसंबर, शेखपुरा- 17 दिसंबर,गया- 19-20 दिसंबर और खगड़िया- 20 दिसंबर।

विभाग के अधिकारी कंपनी से करेंगे संपर्क : इस रोजगार मेला अभियान को सफल बनाने और बिहार के युवाओं को बड़ी संख्या में रोजगार मुहैया कराने के उद्देश्य से श्रम संसाधन विभाग के अधिकारी कंपनी के प्रबंधकों से निजी तैर पर भेंट करेंगे। विदित हो कि पटना में 22 और 23 दिसंबर को और बेगूसराय में 21 को रोजगार कैंप लगेगा।

ऑन द स्पॉट मिलेगी नौकरी : मेले में वैसे नियोजकों को प्राथमिकता दी जाएगी, जो मेला स्थल पर ही बेरोजगारों को ऑफर लेटर प्रदान करेंगे। महिलाओं के अधिक से अधिक संख्या में रोजगार मिले, इसके लिए विभाग के अधिकारी ऐसे स्थानीय नियोजकों से संपर्क करेंगे जो रिसेप्शनिस्ट, टेली कॉलर, शिक्षिका, नर्स, कंप्यूटर ऑपरेटर आदि पदों के लिए नौकरी प्रदान कर सके।

गड़बड़ी हुई तो नपेंगे अधिकारी : रोजगार मेला अभियान को लेकर अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गयी है। मेला समाप्त होने के तीन दिनों के अंदर ही जिम्मेदार अधिकारियों को इसकी रिपोर्ट विभाग को देनी होगी। इसके अलावे नियुक्ति पाने वाले युवाओं और युवतियों को नौकरी से नहीं हटाया जा सके, इसके लिए भी निगरानी की जाती रहेगी। अगर किसी तरह की गड़बड़ी पायी गयी तो, नियोजकों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

किया जाएगा प्रचार-प्रसार:
रोजगार मेले को सफल बनाने के लिए मेला लगने से दस दिन पहले संबंधित इलाके में माइकिंग के जरिये प्रचार-प्रसार कराया जाएगा। स्थानीय जनप्रतिनिधि, सांसद, विधायक, जिप अध्यक्ष, नगर परिषद, मेयर जैसे लोगों को श्रम संसाधन विभाग के अधिकारी व्यक्तिगत रूप से संपर्क कर विशेष अतिथि के लिए आमंत्रित करेंगे। मेले को सफल बनाने के लिए क्या और कैसे सुधाकर किया जाए। इस पर भी जन प्रतिनिधियों से फीडबैक लिया जाएगा। रोजगार मेला आयोजन को लेकर पहले ही राशि जारी की जा चुकी है। नियोजक व बेरोजगारों को हर हाल में मेला स्थल पर बेसिक सुविधा उपलब्ध कराने को कहा गया है। बेरोजगारों को नौकरी प्रदान कराने के लिए विभाग के सभी क्षेत्रीय पदाधिकारी नियोजन मेला की सफलता के लिए मिल-जुलकर काम करेंगे।

 216 total views,  3 views today