जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना
Edited by: राकेश कुमार
9 नवंबर 2022

भागलपुर : नगर निगम की कार्यशैली पर सवाल उठ रहा है। इन दिनों शहर के अधिकतर मोहल्ले में डेंगू,मलेरिया व अन्य मच्छरजनित रोग बढ़ते जा रहे हैं। जिन वार्डों में नगर निगम फॉगिंग व ब्लिचिंग पाउडर के छिड़काव का दावा कर रहा है, वहां की स्थिति और भयावह है। नगर निगम का दावा है कि वह रोजाना विभिन्न मोहल्लों में फॉगिंग हो रहा है। इसके साथ ही नाले-नालियों में भी कीटनाशक दवा का छिड़काव भी हो रहा है.लेकिन दूसरी तरफ मच्छरों का प्रकोप बढ़ रहा है।

नगर निगम में 52 छोटी-बड़ी मशीनें, होता है लाखों खर्च : नगर निगम में मच्छरों को मारने के लिए 51 वार्डों में छोटी व एक बड़ी मशीन मशीन है और सभी मशीन लगभग ठीक है। निगम के अधिकारी बताते हैं कि इसे चलाने के लिए पर्याप्त कर्मचारी व संसाधन हैं और फॉगिंग लगातार किया जाता है। प्रतिदिन एक वार्ड में फॉगिंग के लिए लगभग 1500 रुपये खर्च होता है। रोस्टर के अनुसार कम से कम 16 वार्डों में 25 हजार से अधिक केवल फॉगिंग में लगने वाले पेट्रोल व डीजल पर खर्च हो रहा है। इन मशीनों के अलावा इसके लिए उपयोग में आनेवाली गाड़ी, स्टाफ पर अलग से खर्च आते हैं लेकिन नतीजा कुछ नहीं मिल रहा। शहर का एक इलाका ऐसा नहीं है, जहां निगम ने पूरी तरह से लोगों को मच्छर से निजात दिलायी हो। निगम के संबंधित कर्मियों की मानें तो फॉगिंग मुख्य मार्ग में हर दिन होता है। विभिन्न मोहल्लों व मार्गों में फॉगिंग करायी जाती है और इसके लिए रोस्टर बनाया गया है।

लोगों ने बतायी परेशानी : आदमपुर रेडक्रॉस रोड के राज पोद्दार ने कहा कि रजिस्ट्री ऑफिस के समीप कभी फॉगिंग कराते नहीं देखा। भागलपुर शहर में मच्छर का प्रकोप जारी है। वहीं, सीसी मुखर्जी लेन के शिक्षक डॉ० जीपी सिंह ने कहा कि फॉगिंग कराया गया था, लेकिन इसका असर कुछ नहीं दिख रहा है। इधर वार्ड 16 रिकाबगंज के शैलेश कुमार सिंह ने कहा कि बाढ़ व बारिश का मौसम जाने के बाद शहर के मोहल्लों में मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया है लेकिन नगर निगम की सक्रियता कम दिख रही है। आकाशवाणी क्षेत्र की अन्नपूर्णा देवी ने बताया कि राधारानी सिन्हा रोड स्थित पुलिया के समीप हथिया नाला है, जिसमें कूड़ा-कचरा जमा है। इसी प्रकार सीएमएस स्कूल मुख्य द्वार के सामने नाले में भी कूड़ा-कचरा जमा है और इससे मच्छर फैल रहे हैं. मोटर मजदूर संघ के अध्यक्ष हरिप्रकाश उपाध्याय ने बताया कि प्राइवेट बस स्टैंड के समीप हथिया नाला है, जिसमें कूड़ा-कचरा जमा हुआ है जिससे मच्छर फैल रहे हैं। दीपनगर के सामाजिक कार्यकर्ता मनोज गुप्ता ने बताया कि खरमनचक के नाला व नाली में कभी ब्लिचिंग का छिड़काव नहीं होता और फॉगिंग भी नहीं कराई जा रही है।

बारिश के बाद जलजमाव : बारिश के बाद नगर निगम की ओर से केवल सफाई कार्य शुरू किया गया। लेकिन नाला व नालियों व जलजमाव है। इससे मच्छर पनप रहे हैं। शहर के सीसी मुखर्जी लेन स्थित बड़ा नाला, डिक्शन मोड़, प्राइवेट बस स्टैंड, उर्दू बाजार स्थित हथिया नाला, मुख्य बाजार के विभिन्न नाला व नाली की उड़ाही महीनों से नहीं हुई है। शहर के निचले क्षेत्रों व गंगा के समीप बसे मोहल्ले में जलजमाव की स्थिति बनी है। जहां पानी सूख गये, वहां कीचड़ जमा हुआ है। यहां पर ब्लिचिंग का छिड़काव नहीं कराया गया.मच्छरों का लार्वा तैयार हो रहा है।

 321 total views,  3 views today