जनपथ न्यूज़ :- लोकसभा चुनाव के मद्देनजर महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर सियासी बयानबाजी का सिलसिला लगातार जारी है। पूर्व मुख्यमंत्री व हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी के महागठबंधन में उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा को मिलने वाली सीटों से कम पर सहमत नहीं होने संबंधी बयान के बाद अब कांग्रेस ने इस मामले में राजद से बराबरी की हिस्सेदारी की मांग कर इसमें नया पेच फंसा दिया है। इन सबके बीच राजद नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया और लिखा है, बिहार में अधिकतम जनाधार के साथ राजद सबसे बड़ी पार्टी है। हमारी ताकत कमजोर तबकों का हम पर विास है। दरअसल, कांग्रेस के दो विधायक अजीत शर्मा और रामदेव राय ने कहा है कि जितनी सीटों पर राजद लड़ेगा उतनी ही सीटें कांग्रेस को चाहिए। हालांकि, राजद नेता भाई वीरेंद्र ने ऐसे नेताओं को जदयू और भाजपा का एजेंट करार दिया है। मालूम हो कि पूर्व में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कहा था कि हर राज्य में अब कांग्रेस ‘‘फ्रंट फुट’ पर ही खेलेगी। वहीं, बिहार में कांग्रेस की बराबरी की मांग पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने भी अब ट्वीट कर इस मामले पर अपना पक्ष रखा है। तेजस्वी यादव ने एक इंटरव्यू में अपना पक्ष रखते हुए स्पष्ट किया है कि सभी दलों को साथ लेकर वह चलेंगे, लेकिन यह भी सच है कि बिहार में सबसे बड़ा जनाधार हमारी पार्टी का है और हम सबसे बड़ी पार्टी हैं। तेजस्वी यादव के इस बयान को लेकर सियासी गलियारों में र्चचाओं का बाजार गर्म है। राजद-कांग्रेस समेत महागठबंधन के बाकी दलों के बीच अब तक सीट बंटवारे पर समझौता नहीं हो पाया है। इससे पहले मंगलवार को हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने कहा कि हम उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा से कम सीटों पर किसी भी कीमत पर लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। अगर नहीं राजी होते हैं तो हमलोग विचार करेंगे कि क्या करना है। मांझी ने कहा, कुशवाहा कुछ दिन पहले महागठबंधन में शामिल हुए हैं, जबकि हम पहले से महागठबंधन में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि यह मायने नहीं रखता,‘‘हमें एक, दो या दस सीट मिलती है बल्कि हमें कुशवाहा जी से अधिक सीट मिलनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.