जनपथ न्यूज़ : अथमलगोला थाने के उस्मानपुर-अहिजन गांव के मो नसीम के 25 वर्षीय पुत्र मो जसीम को गांव के ही चार युवकों ने साजिश के तहत घर से बुलाकर नालंदा जिले के गिरियक ले गये. इसके बाद पहाड़ पर ले जाकर उसकी निर्मम हत्या कर दी. हत्या की सूचना मिलते ही मृतक के परिजन व ग्रामीण काफी संख्या में शुक्रवार को अथमलगोला थाने का घेराव किया तथा हत्यारे को पकड़ने को लेकर पुलिस पर दबाव बनाने लगे.
आक्रोशित ग्रामीणों ने थाने के समक्ष ही एनएच-31 को कुछ देर के लिए जाम कर दिया. हालांकि, अथमलगोला थानाध्यक्ष उत्तम कुमार ने मुस्तैदी का परिचय देते हुए चार में से दो हत्यारों को धर-दबोचा.
वहीं दो, आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है. पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पकड़े गये दोनों युवकों ने हत्या की बात स्वीकार कर ली है. पकड़े गये आरोपितों की निशानदेही पर गिरियक पुलिस ने युवक के शव को बरामद कर लिया है. अथमलगोला पुलिस शव को लाने के लिए गिरियक चली गयी है.
साक्ष्य छुपाने के िलए चेहरे को जलाकर शव को फेंक िदया
पहले खिला-िपला कर बेहोश िकया
मृतक के चचरे भाई मो जफर ने बताया कि विगत 26 दिसंबर को ही गांव का ही अनिल शर्मा जसीम को बुलाकर अथमलगोला बाजार ले गया. वहां मो सद्दाम,मो इरफान व मो लल्लू को बुलाकर जसीम को लेकर राजगीर चले गये. राजगीर से चारों युवक जसीम को लेकर गिरियक पहाड़ पर चले गये.
जहां चारों ने उसे खिला-पिला कर बेहोश करने के बाद उसकी हत्या कर दी . साथ ही बदमाशों ने साक्ष्य छुपाने को लेकर शव को जलाने का भी प्रयास किया. उन्होंने उसके चेहरे को जलाकर शव को फेंक दिया.
प्रेम प्रसंग में िदया गया घटना को अंजाम
 जानकारी के मुताबिक मोहम्मद जसीम की अनिल के साथ गहरी मित्रता थी. हाल ही  में अनिल की शादी हुई थी.  अनिल के घर से जसीम का आना-जाना था. इसी दौरान  जसीम का अनिल की पत्नी से संबंध हो जाने को लेकर घटना की साजिश रची गयी. अनिल  दुबई में रहकर काम करता था. मोटी कमाई करने के बाद घर लौटा था. लिहाजा  अनिल ने अपने तीन और मित्रों के साथ हत्या की साजिश रची.
अपने दोस्त जसीम  को रास्ते से हटाने का उसने प्लान बनाया. इसके लिए मोहम्मद सद्दाम को बुलाने के  नाम पर मोटी रकम भी दी गयी थी. पुलिस को दिये बयान में अनिल और मोहम्मद  सद्दाम ने अपराध कबूल कर लिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.