पटना के ज्ञान भवन में स्व-निधि महोत्सव का उपमुख्यमंत्री श्री तारकिशोर प्रसाद ने किया उद्घाटन

जनपथ न्यूज डेस्क/पटना

27 जुलाई 2022

पटना: पटना के ज्ञान भवन में स्व-निधि महोत्सव का उपमुख्यमंत्री श्री तारकिशोर प्रसाद ने उद्घाटन किया। स्थानीय ज्ञान भवन में आयोजित स्व-निधि महोत्सव का उद्घाटन करते हुए बिहार के उप मुख्यमंत्री श्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि कोरोना की वैश्विक चुनौती के दौर में 01 जून 2020 को भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने रेहड़ी-पटरी और खोमचे वाले फुटपाथी दुकानदारों के लिए प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना की शुरुआत की, जिससे गरीबों की उन्नति और आर्थिक समृद्धि के मार्ग आसान हुए हैं। उन्होंने कहा कि इस अनूठी योजना का लाभ लेकर रेहड़ी-पटरी पर सामान बेचने वाले छोटे-मोटे काम करने वाले लोग बैंकों से 10000 रुपये तक का कर्ज ले सकते हैं और पहली बार इस कर्ज को समय पर चुका देने के बाद इस योजना के लाभार्थी दूसरी बार 20000 रुपये और तीसरी बार 50000 रुपये तक का ऋण पा सकते हैं। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना के तहत डिजिटल लेन-देन को प्रोत्साहित करने के लिए रेहड़ी-पटरी पर सामान बेचने वालों को क्यू आर कोड प्रशिक्षण और कैशबैक आदि की सुविधा भी दी जाती है। यदि वेंडर एक साल में कर्ज चुका देते हैं तो 7 प्रतिशत के सालाना ब्याज में सब्सिडी मिलती है, ऐसे में उनको 1200 रुपये भी कैशबैक के रूप में उनके बैंक खाते में दिए जाते हैं।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि यह योजना फुटपाथी व्यवसाय में लगे लोगों के जीवन का बहुत बड़ा संबल है। पटना शहर की बढ़ती आबादी एवं यातायात को सुव्यवस्थित करने के दृष्टिकोण से पटना शहर में 13 स्थानों पर वेंडिंग जोन का निर्माण किया गया है। 23803 वेंडरों का सर्वे करते हुए 23249 वेंडरों को पटना नगर निगम द्वारा स्थान कर्णांकित करके प्रमाण-पत्र निर्गत किया गया है। उन्होंने कहा कि पटना नगर निगम ने प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना के तहत फुटपाथी विक्रेताओं को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से 7936 वेंडरों को बैंक द्वारा ऋण स्वीकृत किया गया है तथा इस क्रम में 5774 फुटपाथ विक्रेताओं को 10000 रुपए की प्रथम किस्त की राशि भी उपलब्ध करायी है। पटना शहरी क्षेत्र के स्लम एवं छोटे मोहल्लों के झुग्गी- झोपड़ी में रहने वाली महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण हेतु घरेलू उद्योग से जोड़ने के सार्थक प्रयास किए गये हैं। पटना नगर निगम द्वारा ऐसे 550 स्वयं सहायता समूह का गठन किया गया है, जिनमें 269 समूहों को बैंकों द्वारा प्रथम किस्त के रूप में एक लाख रुपए का ऋण उपलब्ध कराया गया है। इस योजना के तहत स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को एक लाख रुपए से तीन लाख रुपए तक का ऋण देने का प्रावधान है। पटना नगर निगम द्वारा इसके अलावे कई महत्वपूर्ण कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं, जिनमें ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, डोर-टू- डोर कचरा संग्रहण, सफाई कार्यो की जीपीएस युक्त मॉनिटरिंग, पटना शहर के जल-जमाव से मुक्ति हेतु ठोस प्रबंध किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी के तहत पटना में ट्रैफिक व्यवस्था के सुधार के लिए इंटरमीडिएट पब्लिक ट्रांसपोर्ट, शहर की ड्रेनेज व्यवस्था, मंदिरी नाला परियोजना, पूरे शहर में सी.सी.टी.वी. कैमरे, ऑप्टिकल फाइबर, पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम, इमरजेंसी कॉल बॉक्स इत्यादि की सुविधा हेतु तेजी से प्रयास किए जा रहे हैं।

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार एवं बिहार सरकार के विभिन्न विकासात्मक एवं कल्याणकारी योजनाओं का प्रभावी क्रियान्वयन के कारण राज्य में इन्द्रधनुषी विकास हुआ है। प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि योजना (पीएम स्व-निधि) फुटपाथ विक्रेताओं के जीवन में आर्थिक समृद्धि की निरंतरता को बहाल रखने की दिशा में केंद्र सरकार की एक महत्वपूर्ण स्कीम है। स्व-निधि महोत्सव लाभार्थी स्ट्रीट वेंडरों की सफलता की कहानी और भारतीय अर्थव्यवस्था में उनके योगदान को पहचानने तथा उन्हें सम्मानित करने का उत्सव है।

इस अवसर पर पथ निर्माण मंत्री श्री नितिन नवीन, सांसद श्री रविशंकर प्रसाद, विधायक श्री अरुण सिन्हा, पटना नगर निगम की निवर्तमान महापौर श्रीमती सीता साहू, पटना के नगर आयुक्त श्री अनिमेष पराशर, भारत सरकार के अवर सचिव श्री मधुकर पांडे सहित पटना नगर निगम स्मार्ट सिटी के अन्य पदाधिकारीगण एवं प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना के लाभार्थीगण उपस्थित थे। इस मौके पर कला जत्था ने स्व-निधि योजना के विषय में नाटक के माध्यम से बेहतर प्रस्तुति दी।

3 Views