जनपथ न्यूज डेस्क

Reported by: गौतम सुमन गर्जना, भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
28 सितंबर 2022

भागलपुर : दाे दशक बाद एक बार फिर से अपराधी बेखाैफ हाे गए हैं, हत्या का सिलसिला नहीं थम रहा है, इन दिनों लगातार हत्या हाे रही है। हालात यह है कि अगर बीते माह भर के आकड़ाें का आकलन करें ताे हर तीसरे दिन एक हत्या हाे रही है। इनमें सिल्क व्यवसायी, जमीन काराेबारी, गार्ड, सरकारी कर्मचारी, फेरीवाले से लेकर टेंपाे चालक तक की हत्या हुई है लेकिन, पुलिस अभी तक एक भी मामले में ठाेस नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। सिर्फ एक-दाे की गिरफ्तारी कर पुलिस अपनी पीठ थपथपा रही है। अपराध पर अंकुश लगाने में पुलिस की नाकामी से भागलपुर सहम उठा है। हालत यह है कि फरियादी न्याय की गुहार लगा रहे हैं।

लगातार हाे रही वारदात की वजह से लाेगाें का पुलिस से भराेसा उठने लगा है। इसके साथ ही लाेगाें का गुस्सा भी फूटने लगा है। तातारपुर थाने के गोलाघाट निवासी टोटो चालक की सोमवार की रात चाकू से गोदकर निर्मम हत्या कर दी गई, इससे आक्राेशित लाेगाें ने बीच सड़क पर शव रखकर उसे जाम कर दिया और करीब चार घंटे तक लाेग वहां डटे रहे। बाद में प्रशासन के समझाने और आश्वासन के बाद जाम ताेड़ा गया। वहीं प्लाॅटर अमरेंद्र सिंह के हत्यारे की अब तक गिरफ्तारी नहीं हाेने से भी लाेगाें में आक्राेश बढ़ रहा है, लेकिन पुलिस के आला अधिकारी अब भी अपराध राेकने के लिए काेई ठाेंस पहल नहीं कर सके हैं। हालत यह है कि पुलिस कप्तान हर सप्ताह व माह में अपराध गाेष्ठी कर सिर्फ फरमान जारी कर रहे हैं लेकिन उसका काेई ठाेंस नतीजा सामने नहीं आ पा रहा है।

*जानिए, इस माह में हुईं हत्याएं और पुलिस ने क्या की कार्रवाई*

• एक सितंबर : गोराडीह थाना क्षेत्र के रामनगर गांव में भैस चराने के विवाद में 35 वर्षीय महिला की डंडे से पीटकर हत्या कर दी गई। इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया, जबकि दूसरा अब भी फरार है।

• चार सितंबर : बरारी थाना क्षेत्र के संतनगर मोहल्ले में निगम की स्थापना शाखा प्रभारी गौतम मल्लिक की संदिग्ध अवस्था में माैत हुई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ कि गौतम की गला दबाकर हत्या की गई। इस मामले में पुलिस अभी तक एक भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी है।

• आठ सितंबर : जोगसर थाना क्षेत्र के चंडी प्रसाद लेन स्थित श्रीनिकेतन अपार्टमेंट में गार्ड पुरुषोत्तम की अपराधियों ने गला रेत कर हत्या कर दी। वहीं, दोस्त साजन का गला रेत डाला। घटनास्थल से डॉग स्क्वाड और एफएसएल की टीम ने सैंपल लिए, सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए लेकिन, अब तक काेई नतीजा नहीं निकला।

• चौदह सितंबर: नाथनगर थाना क्षेत्र के केबी लाल रोड में सिल्क व्यापारी मो०अफजाल की अपराधियों ने छह गोली मारकर हत्या कर दी। नामजद आरोपी इरशाद हुसैन अभी तक फरार है। दो आरोपी शाहरूख और इफ्तिखार को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के अनुसार, इस हत्याकांड में छह लोग शामिल थे लेकिन, मुख्य आरोपी समेत चार लोग अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं।

• उन्नीस सितंबर : बबरगंज थाने के बागबाड़ी मोहल्ले में प्लॉटर अमरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। हत्याकांड के पांच प्रमुख नामजद आरोपी में से एक भी गिरफ्तार नहीं हाे सका है। दो आरोपी विवेकानंद उर्फ डिस्को और राजेश कुमार उर्फ रिंकू को गिरफ्तार कर लिया गया है।

• तेईस सितंबर : खरीक के तेलघी गांव में कन्हैया यादव नामक युवक ने खुशबू कुमारी की गला दबाकर कर हत्या कर दी। बेवफाई के शक में गला दबाकर हत्या की बात कही जा रही है। पुलिस की कार्रवाई इस मामले में हुई है। हालांकि यह इलाका नवगछिया पुलिस जिला का है। इसमें कन्हैया यादव ने भी जहर खा लिया था। निजी अस्पताल से इलाज के दौरान युवक को गिरफ्तार किया गया।

• चौबीस सितंबर : हबीबपुर थाने के करोड़ी बाजार में फेरी का काम करने वाले मो० सन्नी की शाम में 4 बजे ही अपराधियाें ने तीन गाेली मारकर हत्या कर दी। इसके पीछे कारण बताया गया कि क्रिकेट खेलने को लेकर 20 दिन पहले डीजे उर्फ दिलशाद से विवाद हुआ था लेकिन इस मामले में भी अब तक पुलिस काेई ठाेंस कार्रवाई नहीं कर सकी है। नामजद अभियुक्त डीजे उर्फ दिलशाद अभी तक पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

• सत्ताईस सितंबर : तातारपुर थाने क्षेत्र के गोलाघाट निवासी टोटो चालक देव कुमार सिंह की चाकू से गोदकर निर्मम हत्या कर दी। अभी इस मामले में हत्या के पीछे के ठाेंस कारण का पता नहीं चल सका है। हालांकि पुलिस प्रेम-प्रसंग से जोड़कर इस मामले को देख रही है। इस मामले में अभी तक हत्यारे का पता नहीं चल सका है।

*इन थाना क्षेत्र में अपराधियाें ने वारदात काे दिया अंजाम* नाथनगर, जाेगसर, बरारी, बबरगंज, हबीबपुर, तातारपुर, गाेराडीह, खरीक और बिहपुर.
इस बावत हमनें एसएसपी बाबूराम से सीधी बात करते हुए पुछा कि पिछले 27 दिनाें में हत्या की नाै घटना हुई, अचानक इस तरह अपराध बढ़ने के पीछे की क्या वजह है?
इस पर एसएसपी बाबूराम ने बताया कि हरेक केस का कारण आपकाे पता है और फिर सारी चीजें प्रेस कांफ्रेंस में डिटेल से बताई जा चुकी है।

फिर हमने पुछा कि पहले की अपेक्षा इधर अपराध क्याें बढ़े हुए हैं?

एसएसपी बाबूराम ने बताया कि सबके अलग-अलग कारण हैं। किसी में पुरानी रंजिश ताे किसी में पारिवारिक विवाद है, किसी में जमीन का विवाद है वहीं बरारी वाले मामले में पारिवारिक मसला सामने आया है।

तब मैंने पुछा कि आपने कहा था कि लूट-हत्या की घटना के समय गश्ती वाहन कहां था, इसकी जांच हाेगी, इसमें कुछ पता चला क्या?
इस पर एसएसपी बाबूराम ने बताया कि अभी तक गश्ती वाहन की लापरवाही का मामला सामने नहीं आया है।

 51 total views,  3 views today