सबसे अधिक घटनाएं भागलपुर में, कई बच्चों की भी गई जान

जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना/भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
www.janpathnews.com
2 नवम्बर 2022

बिहार में छठ पूजा के दौरान डूबने से 49 लोगों की मौत हो गई है। मरने वालों में 24 बच्चों के अलावा महिलाएं भी शामिल हैं। पटना के गौरीचक में डूबने से तीन बच्चों की मौत हो गई। सबसे अघिक भागलुपर में सात लोगों की डूबने से जान गई है। समस्तीपुर में भी छह लोगों की डूबने से मौत हुई है। हालांकि आपदा प्रबंधन विभाग ने 22 लोगों की ही मौत की पुष्टि की है।

कहां-कितनी मौतें : मिली जानकारी के अनुसार पूजा के दौरान रामगढ़, दुर्गावती व भभुआ में तीन लोगों की मौत हो गयी वैशाली के पातेपुर में दो और महुआ में एक की जान गयी है। इसमें दो बच्चे भी शामिल है। सुपौल, मधेपुरा व कटिहार में दो-दो लोगों की मौत हुई है। पूर्णिया-खगड़िया में चार-चार लोगों की मौत हुई।

पटना में भी डूबने से 3 बच्चों की मौत : पटना में भी डूबने से 3 बच्चों की मौत हो गई है। कोसी-सीमांचल और पूर्वबिहार में छठ के दौरान डूबने से दो दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई ज्यादातर मामले कोसी-गंगा व उसकी सहायक नदियों के घाटों पर हुई है। मुंगेर सहित कुछ जगहों पर तो घर का इकलौता चिराग ही बुझ गया। पूर्णिया के कसबा में एक साथ तीन बच्चों की मौत डूबने से हुई है।

मुंगेर में इकलौता चिराग बुझा :
गौरतलब हो कि मुंगेर में ऐसी घटना घटी कि जिससे पूरे इलाके में मातम का माहौल देखा जा रहा है। छठ घाट पर अर्घ्य देने के दौरान ही एक युवक का पांव फिसल गया और वो गहरे पानी में चला गया। जहां डूबने से उसकी मौत हो गई। अब उस घर में कोई पुरुष सदस्य नहीं बचे हैं। मृतक ही उस घर में अकेला कमाने वाला था। अपने पीछे वो अपनी मां और कई बहनों को छोड़ गया है।

 276 total views,  3 views today