जितेन्द्र कुमार सिन्हा, पटना, 23 सितम्बर ::

पीएचडी चेंबर ऑफ कॉमर्स बिहार चैप्टर ने जेमिनी कंसल्टिंग और फ्यूर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, दिल्ली के सहयोग से शुक्रवार को होटल रेड वेलवेट (बेली रोड) पटना में बिहार उद्योग के लिए डिजिटल और विदेश व्यापार, जीएसटी से संबंधित चुनौतियों और वैश्विक व्यापार के अवसरों पर परिचर्चा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन सत्यजीत सिंह, राणा सिंह, सिद्धार्थ सामल ने दीप प्रज्वलित कर किया गया।

जेमिनी कंसल्टिंग के निर्देशक सिद्धार्थ सामल ने अपने संबोधन में कहा की उधोग के क्षेत्र में एक एसएपी कार्यान्वयन भागीदार, इस आयोजन के प्रमुख प्रायोजकों में से एक था जो प्रौद्योगिकी अपनाने और डिजिटल परिवर्तन के माध्यम से एमएसएमई क्षेत्र के लिए क्षमता निर्माण पर केंद्रित है।

एसएपी के पार्टनर बिजनेस डायरेक्टर अमर नाथ ओझा ने बताया कि कैसे सैप न केवल बड़े और वैश्विक उद्यमों में बल्कि एमएसएमई क्षेत्र में भी संगठनों को प्रौद्योगिकी अपनाने और डिजिटल परिवर्तन की दिशा में अपनी यात्रा शुरू करने में मदद कर रहा है।

पीएचडी चेंबर ऑफ कॉमर्स के रेजिडेंट डायरेक्टर प्रणव सिंह ने कहा की डीजीएफटी पीएचडीसीआई के सहयोग से उद्योग के लाभ के लिए नवंबर में पटना में निर्यात जागरूकता कार्यक्रम करेगा।

उक्त परिचर्चा में डोना घोष (ईआर) विदेश व्यापार पर, सीए एनके लाल जीएसटी फाइलिंग पर, निदेशक एमएसएमई बिहार प्रदीप कुमार, प्रधान सिडबी बिहार प्रदीप झा, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज प्रोसेनजीत पाल, निदेशक सीआईएमपी डॉ. राणा सिंह, सीईओ बिजनेस इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन फाउंडेशन, सीआईएमपी कुमोद कुमार, डॉ. अमरनाथ मित्र, और निदेशक जेमिनी कंसल्टिंग सिद्धार्थ सामल ने उधोग और विदेश व्यापार पर चर्चा किया।

चर्चा में एजेंडा था (1) डीजीएफटी की निर्यंत बंधु योजनाएं (2) जीएसटी भरना और आईजीएसटी का दावा करने में उद्योग द्वारा सामना किए जाने वाले मुद्दे (3) निर्यात के लिए वित्तीय सहायता और योजनाएं (4) उद्योग के लिए एमएसएमई की हालिया नीतियां
(5) प्रौद्योगिकी अनुकूलन और डिजिटल परिवर्तन के माध्यम से एमएसएमई में क्षमता निर्माण।
——–

20 Views