अतिथि सहायक प्रध्यापक के साथ अन्याय, एक का रोजगार छीनकर दूसरे को रोजगार, ये कैसा न्याय!

जनपथ न्यूज डेस्क
Edited by: राकेश कुमार
www.janpathnews.com
29 नवम्बर 2022

पटना: पटना के गर्दानीबाग धरनास्थल पर बिहार के सभी जिलों में संचालित सरकारी इंजीनियरिंग तथा पॉलीटेक्निक कॉलेजों में कार्यरत सैकड़ों अतिथि सहायक प्रध्यापको ने अपने समायोजन की मांग को लेकर दो दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। इन अतिथि प्रोफेसरों का कहना है कि जब सरकार के पास सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज में रेगुलर प्रोफेसर नही थे तब हमलोगो ने विपरीत परिस्थिति में सरकार की मदद की और हमारी नियुक्ति AICTE के मापदंडों के अनुरूप करके और हमलोगों के नाम पर सभी कॉलेजों का AICTE से मान्यता लिया गया। बिहार के सभी पॉलीटेक्निक इंजीनियरिंग कॉलेजों को गेस्ट लेक्चरर और प्रोफेसरों ने ही शुरुआत और सेटअप किया है और जब सभी कॉलेज सुचारू रूप से चलने लगा तो हम सभी को हटाने का प्रयास किया जा रहा है। सभी अतिथि सहायक शिक्षक विगत 15 वर्षो से लगातार पठन पाठन के साथ विभिन्न कार्यों जैसे परीक्षा शाखा, हॉस्टल, एकेडमिक, कौशल विभाग, छात्र कल्याण शाखा कैंपस प्रभारी इत्यादि का कार्य कर रहे हैं।

डॉ. स्वस्तिका, अतिथि सहायक प्राध्यापक, जीईसी बक्सर ने कहा कि सरकार का उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा रोजगार देना है जो अतिथि सहायक प्रध्यापक को हटाने से जमीनी स्तर पर परिपूर्ण नही होगा क्योंकि 15 साल से अपनी सेवा दे रहे अतिथि सहायक शिक्षक को हटा देने से वे बेरोजगार हो जायेंगे और उनके पास कोई विकल्प भी नही होगा क्योंकि बहुत अतिथि सहायक शिक्षको की उम्र 40 से अधिक हो गई है, 40 वर्ष होने के बाद वे अब सरकारी नौकरी भी नही कर सकते हैं, ये तो अन्याय है अतिथि सहायक शिक्षको के साथ।

रवि गुप्ता ने बताया कि पूर्व में बिहार के सीएम नीतीश कुमार द्वारा अतिथि सहायक शिक्षको को आश्वाशन दिया गया था कि हम गेस्ट प्रोफेसर को होस्ट बनाना चाहते है। साथ ही बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने भी गेस्ट समायोजन करने की बात कही थी। बिहार के वर्तमान उपमुख्यमंत्री श्री तेजस्वी यादव ने भी विपक्ष में रहते हुए आश्वाशन दिया था कि जब हमारी सरकार बनेगी तो हम अपलोगो के बारे में सोचेंगे लेकिन अभी तक कुछ भी नहीं किया जा रहा है बल्कि हमलोगों को कॉलेज से निकालने का प्रयास किया जा रहा है।

धरना का संयोजन कर रहे अध्यक्ष राजीव कुमार ठाकुर, रवि गुप्ता, डॉ. स्वस्तिका, विश्वजीत कुमार और मुन्ना यादव ने बताया कि हमलोगो का सरकार एक ही मांग है कि हमारा समायोजन किया जाए ताकि हमलोग भी अपना जीवन सम्मान के साथ जी सके।

बता दे कि इस धरना का खुला समर्थन BJP, CPI, AAP, LJP ने किया।
www.janpathnews.com

 2,007 total views,  3 views today