*6 साल की नौकरी और मूंछ में ताव देते हुए कर दिया बड़ा कांड*

जनपथ न्यूज डेस्क/पटना
Reported by: गौतम सुमन गर्जना/भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
12 अक्टूबर 2022

भागलपुर : बिहार की कलंक कथाओं की किताब मोटी होती जा रही है। लगभग हर साल इस किताब के अध्याय में नामचीन बड़े अधिकारी जुड़ते जा रहे हैं। कइयों पर लगा कलंक घोटाले जैसे भ्रष्टाचार का है। इनके पास से बरामद होती काली कमाई की तस्वीरें आंखें चौंधिया देने वाली रही हैं। इसी कलंक कथा में अब एक और आईपीएस अधिकारी ने एंट्री ली है। नाम- दया शंकर। दयाशंकर को देख, फिल्म सिंघम का नायक याद आ जाए। हमेशा वर्दी पर दिखाई देने वाले दयाशंकर हमेशा मूंछ को ताव देते हुए दिखाई दिए और इसी ताव में उन्होंने बड़ा कांड कर दिया, जिसके लिए कार्रवाई की गाज उनपर गिर चुकी है।
एसपी दयाशंकर के काले अध्याय को 11 अक्टूबर 2022 को आर्थिक अपराध इकाई की कलम ने लिख दिया है। साहब के पास से बड़ी मात्रा में कैश और अकूत संपत्ति मिली है। बिहार की राजधानी पटना के रहने वाले इस आईपीएस अधिकारी के काली कमाई के बारे में लोगों को विश्वास नहीं हो रहा है क्योंकि ऐसा कहा जाता था कि दया शंकर नाम के मुताबिक काफी मिलनसार और आम जनता से सीधे संवाद स्थापित करने वाले अधिकारी हैं।

अंग प्रदेश में करते रहे कांड : गौरतलब है कि अंग प्रदेश स्थित पूर्णिया में एसपी के पद पर पदस्थापित दया शंकर 2016 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। दया शंकर बिहार के कई जिलों में एसपी के पद पर रहे हैं। पूर्णिया एसपी बनाए जाने के पूर्व दयाशंकर शेखपुरा के एसपी के रूप में पदस्थापित थे। अंग प्रदेश के बड़े जिले पूर्णिया में उनके खिलाफ जो शिकायतें मिली, उसी आधार पर यह कार्रवाई की गई है।

एसवीयू ने मिल रही शिकायतों के बाद एडीजी एनएच खान ने एक जांच टीम गठित की। जांच में यह पुष्टि हुई है कि आईपीएस दया शंकर ने कई चल -अचल सम्पत्ति बना रखी हैं, जो उनकी आय से अधिक हैं। आखिर ये पैसा आया कहां से?

हवाला की काली कमाई : एसपी दया शंकर के एक या दो नहीं बल्कि उनके सात ठिकानों पर छापेमारी की गई। इस दौरान आईपीएस दया शंकर के यहां आय से अधिक 71 लाख 42 हजार रुपये के सबूत मिले हैं। ये रकम हवाला की है, ऐसी भी जानकारी निकलकर सामने आई है। दयाशंकर के खिलाफ मामला दर्ज कर विशेष कोर्ट से अनुमति लेकर सुबह से ही एसपी के ठिकानों की तलाशी ली जा रही है। छापेमारी में एसटीएफ की दो यूनिट, बीएमपी एक की चार यूनिट का सहयोग लिया जा रहा है। पूर्णिया एसपी के ऑफिस, आवास के अलावे पटना समेत करीब सात जगहों पर रेड की सूचना है। विदित हो कि इसके पहले भी बालू के अवैध खनन में संलिप्तता पर दो आइपीएस अफसरों के खिलाफ आर्थिक अपराध इकाई ने कार्रवाई की है।

अब तक मिले कैश अमाउंट : पूर्णिया एसपी दयाशंकर के आवास पर आर्थिक अपराध इकाई छापामारी के दौरान अब तक 30 लाख रुपए नगदी मिलने की सूचना है। इसके अलावा सदर थाना अध्यक्ष संजय सिंह के आवास से आर्थिक अपराध इकाई की टीम ने एक करोड़ रुपये नगद बरामद किया है। एसपी आवास पर छापामारी के दौरान आर्थिक अपराध इकाई को कई लग्जरी वाहन भी मिले हैं, जिसका सत्यापन किया जा रहा है। इसके अलावा छापामारी अभियान जारी है।

 675 total views,  3 views today