जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना
Edited by: राकेश कुमार
www.janpathnews.com
23 नवम्बर 2022

भागलपुर : कभी-कभी प्राकृतिक नजारे और रसायनिक क्रियाशीलता तथा जैविक असमानता के बीच कोई फल, सब्‍जी या पौधे ऐसा अद्भुत रूप ले लेता है, जिससे लोग यह भ्रम पाल लेते हैं कि कहीं यह दैविक चमत्‍कार तो नहीं। हालांकि, यह उनका भ्रम है… जी हां! कुछ ऐसा ही नजारा भागलपुर जिले के घोघा इलाके में देखने को मिला है।

भागलपुर में फला अद्भुत गोभी : हम बात कर रहे हैं घोघा के एक किसान के खेत में फले एक गोभी की। छोटी ओलपुरा निवासी प्रेम यादव ने अपने खेत में गोभी लगाया है। खेत में पांच सौ से ज्‍यादा गोभी के पौधे लगाए गए हैं। सभी में गोभी का फल लग गया है। इसी में एक ऐसा भी पौधा है, जिसमें अद्भुत आकृति का गोभी फला है। यह गोभी करीब तीन फुट लंबी और इसकी सर्पाकार की आकृति है। गोभी का उपरी भाग अर्थात मुंह भी सांप के तरह है। प्रेम यादव ने जैसे ही इस प्रकार उत्‍पन्‍न गोभी को देखा तो इसकी सूचना उन्‍होंने लोगों को दी। धीरे-धीरे यह बातें कृषि विज्ञानी तक बात पहुंच गई।

सर्पाकार आकृति में फला है गोभी : सर्पाकार आकृति की आस गोभी को देखने के लिए काफी संख्‍या में लोग वहां जुट गए। गांव के ही कुछ लोगों ने कहा अरे यह तो गजब हो गया, यह तो साक्षत नाग देवता है। नाग देवता यहां प्रकट हुए हैं और नाग ने ही गोभी का रूप धरा है, फ‍िर क्‍या था लोगों ने इस गोभी की पूजा अर्चना शुरू कर दी। देखते ही देखते काफी संख्‍या में लोग खेत में जुट गए। गोभी को चंदन लगाया जाने लगा है, लोग उस पर जल चढ़ाने लगे हैं। इसके साथ ही रुपये-पैसे का चढ़ावा भी शुरू हो चुका है। बात धीरे-धीरे इतनी दूर फैल गई कि दूसरे गांवों से भी लोग यहां जुटने लगे हैं।

रसायनिक दुष्‍प्रभाव : हालांकि कुछ लोगों ने कहा कि सही रूप से रसायनिक क्रिया नहीं होने के कारण इस रूप में गोभी उत्‍पन्‍न हुआ है़। यह कोई चमत्‍कार नहीं है और न ही इस गोभी के रुप में कोई प्रकट हुए हैं। रसायनिक दुष्‍प्रभाव के कारण ही इस प्रकार का गोभी उत्‍पन्‍न हुआ है, लेकिन कुछ लोग ऐसी बातों को नहीं मानकर उस गोभी को नाग देवता मानकर उसकी पूजा करने में जुटे हुए हैं।

 234 total views,  3 views today