जनपथ न्यूज डेस्क
Reported/Edited by: राकेश कुमार
25 अप्रैल 2023

समाज कल्याण विभाग के बाल विकास परियोजना के अंतर्गत कार्यरत सभी सविंदाकर्मी तथा महिला पर्यवेक्षको एवम अन्य कर्मियो का स्थायी पद पर बहाल हुए थे और लगभग 12 वर्षो से सभी सभी सविंदकर्मी निष्टापूर्वक अपने कार्यों और दायित्वों का निर्वहन कर रहे है लेकिन इन संविदाकर्मियों का मानदेय बहुत ही कम है और इन 12 वर्षो में सिर्फ एक बार ही अल्प मानदेय में वृद्धि किया गया है। इस मानदेय वृद्धि की गणना में भी महिला पर्यवेक्षको की समानता नहीं की गई।

बिहार राज्य आईसीडीएस महिला पर्यवेक्षको ने नियमसंगत मानदेय में वृद्धि की मांग लेकर महिला पर्यवेक्षको ने गर्दनीबाग धरना स्थल पर तीन दिवसीय भूख हड़ताल किया है।

महिला पर्यवेक्षको ने कहा कि अगर विभाग नियमसंगत मानदेय में वृद्धि की मांग पूरी नहीं करती है तो हम सचिवालय के समक्ष आत्मदाह करने के लिए तैयार है। बिहार राज्य आईसीडीएस महिला पर्यविक्षिका एवम कर्मचारी संघ की अध्यक्ष प्रीति रानी प्रीत ने सरकार और विभाग को आत्मदाह करने की चेतावनी भी दी है।

अपनी नियमसंगत मानदेय में वृद्धि की मांग को लेकर सभी संविदाकर्मी 24/04/2026 से 26/04/2023 तक सभी संविदाकर्मी भूख हड़ताल पर रहेंगे। सभी संविदाकर्मी 27/04/2023 को निदेशालय का घेराव करेंगे और मांग पूरी नहीं होने की स्थिति में 28/04/2023 को सचिवालय के समक्ष आत्मदाह के लिए बाध्य होंगे।

 171 total views,  3 views today