दो दिन में तीन बार पैर छूने के लिए झुके नीतीश,जरूरत से ज्यादा विनम्र दिख रहे बिहार के सीएम नीतीश कुमार

जनपथ न्यूज डेस्क
Written by: गौतम सुमन गर्जना/भागलपुर
29 नवम्बर 2022

तारीख 25 मार्च 2022… स्थान- लखनऊ, उत्तर प्रदेश. योगी आदित्यनाथ दूसरी बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने जा रहे थे। मंच पर भाजपा के बड़े-बड़े नेता मौजूद थे। इसके साथ वहां पर कई राज्यों के मुख्यमंत्री भी थे। तभी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की एंट्री होती है। मंच पर मौजूद सभी नेताओं का अभिवादन करते हैं, नमस्कार-प्रणाम करते हैं और फिर आगे बढ़ जाते हैं। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास पहुंचते हैं और झुककर उनका अभिवादन करते हैं। हाथ जोड़े सीएम नीतीश का अभिवादन पीएम मोदी हाथ पकड़कर स्वीकार करते हैं। लगभग 9 महीने के बाद नीतीश कुमार एक बार फिर कुछ ऐसा ही करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

दरअसल, दो दिनों के अंदर वे तीन दफे दूसरों के आगे झुकते नजर आए और फिर आगे बढ़ गए। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि बिहार के मुख्यमंत्री को आखिर हो क्या गया है..? नीतीश कुमार आज कल बहुत अधिक खुश हैं या ज्यादा आध्यात्मिक हो गए हैं, या कोई और बात है…? ये सवाल नीतीश कुमार के हाव-भाव से ही उठ रहे हैं, जिसका जवाब सिर्फ और सिर्फ नीतीश कुमार ही दे सकते हैं। हाव भाव और व्यवहार को देख सियासी हलके में कई तरह के चर्चे हो रहे हैं। जरूरत से ज्यादा विनम्र दिख रहे नीतीश क्या ‘मोह-माया’ से दूर जाने की तैयारी कर रहे हैं..?

जब ललन सिंह के आगे झुके और फिर आगे बढ़ गए नीतीश : दरअसल, रविवार को नीतीश कुमार की पार्टी जदयू की राज्य पर्षद की बैठक थी। बैठक में शामिल होने के लिए नीतीश कुमार पार्टी ऑफिस पहुंचे हुए थे। सीएम नीतीश का स्वागत करने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह समेत कुछ और नेता वहां खड़े दिख रहे थे। नीतीश कुमार गाड़ी से उतरे और ललन सिंह की ओर बढ़े। जब तक ललन सिंह नीतीश कुमार को बुके देते, उससे पहले ही नीतीश कुमार हाथ जोड़कर उनके आगे झुक गए। इसके बाद ललन सिंह ने सीएम के हाथों को पकड़ा और बुके दिया। नीतीश कुमार के इस एक्शन को देख, वहां मौजूद हर कोई हैरान नजर आ रहे थे।

जब पत्रकारों के आगे हाथ जोड़े और झुकते नजर आए नीतीश : इससे पहले बिहार सरकार ने शनिवार को नशा मुक्ति दिवस मनाया था और इस कार्यक्रम में नीतीश कुमार भी शामिल हुए थे। कार्यक्रम में शामिल होकर नीतीश कुमार जब बाहर निकले तो पत्रकारों ने उन्हें रोका और सवाल करने लगे। इसके बाद नीतीश कुमार मुस्कुराते हुए पत्रकारों के पास आए और कहते हैं कि हमारी बातों को ठीक से लिखिएगा, फिर हाथ जोड़कर झुकने लगते हैं। उस वक्त भी नीतीश कुमार इस व्यवहार से सभी पत्रकार हैरान नजर आए।

जब खुद से छोटे प्रेम सिंह के आगे झुकते दिखे नीतीश : खबरों की मानें तो शनिवार की शाम सीएम नीतीश कुमार एक हाई प्रोफाइल परिवार के इंगेजमेंट कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे हुए थे। कार्यक्रम में बिहार के गोल्डमैन के नाम से मशहूर प्रेम सिंह भी मौजूद थे। बताया जाता है कि प्रेम सिंह को देख नीतीश कुमार ने उन्हें अपने पास बुलाया। प्रेम सिंह, नीतीश कुमार का आशीर्वाद लेने के लिए पैर छूना चाहा, लेकिन नीतीश कुमार ने उनका हाथ पकड़ लिया और खुद अपने से छोटे प्रेम सिंह के आगे झुकते देखें गए थे।

राजगीर में दो सरदारों के छुए थे पैर: इसी तरह कुछ दिन पहले राजगीर में गुरु नानक देव के 554वें प्रकाश उत्सव में नीतीश कुमार मंच पर दो सरदारों के पैर छुए थे। यही नहीं, पटना में भी प्रकाश पर्व के मौके पर नीतीश कुमार सिख डेलीगेट्स के पैर छुए थे। ऐसे में सवाल उठता है कि अचानक से नीतीश कुमार में इतना बदलाव क्यों और कैसे आ गया है..? नीतीश कुमार लगभग 40 वर्षों से मेन पॉलिटिक्स में हैं। कभी भी किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में पैर छूते हुए दिखाई नहीं दिए सीएम नीतीश में अचानक आए परिवर्तन से सियासी हलके में चर्चा का विषय बना हुआ है, जिसे देख व सुनकर हमें भी रहा नहीं गया और आज हमने अपने मन में उठ रहे सवाल को अपने सोनभद्र एक्सप्रेस के जरिये आपके सामने रख दी।
गौरतलब हो कि बिहार में सत्ता परिवर्तन होने के कुछ दिनों के बाद ही राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा था कि देश नीतीश कुमार का इंतजार कर रहा है और बिहार तेजस्वी यादव का। जगदानंद सिंह ने कहा था कि 2022 बीतने के बाद 2023 में नीतीश देश की लड़ाई लड़ेंगे। वहीं, बिहार के भविष्य की लड़ाई तेजस्वी यादव के हाथ सौंप देंगे। हालांकि, उन्होंने कुछ भी खुलकर नहीं कहा था लेकिन इशारे ही इशारे में कहा था, सभी को पता है। कहीं नीतीश कुमार का हाव भाव और व्यवहार उसी का संकेत तो नहीं है।

 210 total views,  3 views today