बिहार में दो सीटों पर उपचुनाव,मोकामा में राजद तो गोपालगंज में भाजपा की जीत;उपचुनाव रिजल्ट के बाद निशाने पर आए नीतीश

जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना/भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
www.janpathnews.com
7 नवम्बर 2022

पटना/भागलपुर: बिहार में दो सीटों पर हुए उपचुनाव का परिणाम आ चुका है। एक सीट भाजपा को तो एक सीट राजद को मिली है। चुनाव परिणाम आने के बाद साफ हो गया है कि बिहार में अब सियासी लड़ाई भाजपा और राजद के बीच में ही है और आगे भी दोनों दल ही आमने-सामने होंगे। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तो उपचुनाव प्रचार से लगभग दूर रहे। कहीं भी वे प्रचार करने तक नहीं गए। हालांकि, जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और अन्य नेता व कार्यकर्ता जरूर प्रचार करते दिखे। लेकिन भाजपा अभी से ही कहने लगी है कि गोपालगंज में भाजपा और राजद के बीच लड़ाई थी और वहीं मोकामा में भाजपा और अनंत सिंह के बीच।

इधर, बिहार विधान परिषद् के नेता विरोधी दल सम्राट चौधरी ने महागठबंधन सरकार पर हमला बोला है। सम्राट चौधरी ने कहा है कि गोपालगंज में भाजपा की जीत हुई है और मोकामा में महागठबंधन सरकार की हार हुई है। सम्राट चौधरी ने कहा कि मोकामा में छोटे सरकार अनंत सिंह की निजी जीत है। सम्राट चौधरी ने कहा कि जिस तरह गोपालगंज की जनता ने पिछले पांच बार से भाजपा पर अपना भरोसा जताया है, वह बताता है कि लोगों के मन में अभी भी भाजपा को लेकर कितना भरोसा है।

मोकामा में राजद को नुकसान : सम्राट चौधरी ने मोकामा को लेकर कहा कि वहां सरकार की जीत नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के साथ जाने के बाद भी वहां राजद को 20 हजार वोटों का नुकसान हुआ है। इसका मतलब साफ है कि अब नीतीश कुमार का कोई कैडर वोट नहीं है। भाजपा नेता ने कहा कि मोकामा में भाजपा का 18 हजार वोट बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि पिछली बार मोकामा में एनडीए को 43 हजार वोट आया था और इस बार लगभग 63 हजार मत अकेला भाजपा को मिला है। यह प्रतीक है कि नीतीश कुमार का कैडर वोट अब नहीं रहा।

बराबरी नहीं, भाजपा की जीत है : इधर, बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि उपचुनाव का जो परिणाम आया है, वह किसी एंगल से बराबरी नहीं है, बल्कि यह भाजपा की जीत है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि गोपालगंज हम जीते हैं और मोकामा में बिहार सरकार की हार हुई है विजय सिन्हा ने कहा कि मोकामा में तो छोटे सरकार अनंत सिंह की पर्सनल जीत है। इसके अलावा उन्होंने सरकार पर प्रशासनिक दुरुपयोग करने का भी आरोप लगाया है। नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि बिहार की जनता भाजपा को कितना पसंद करती है, ये वोटों की संख्या देखकर ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

तो अब लड़ाई भाजपा और राजद के बीच होगी?

चुनाव परिणाम देखकर तो यही लगता है कि बिहार में अब सियासी लड़ाई राजद और भाजपा के बीच में ही है और आगे भी दोनों दल ही आमने सामने होंगे। भाजपा नेता स्पष्ट तौर पर तो कुछ नहीं बोल रहे हैं, लेकिन उनका इशारा साफ है कि नीतीश कुमार अब लड़ाई से बाहर हो चुके हैं, नीतीश कुमार का उपचुनाव प्रचार से दूर होना। बराबरी पर राजनैतिक लड़ाई खत्म होना, तो सियासी संदेश यही दे रहा है। शायद यही कारण है कि मोकामा हरकर भी भाजपा अपनी जीत और ‘सरकार’ की हार बता रही है।

 225 total views,  6 views today