कोलकाता के राजरहाट के रिसोर्ट में ‘दोस्तों’ का नशा,21 साल की मासूम के साथ सामूहिक रेप का है आरोपी

जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना
Edited by: राकेश कुमार
www.janpathnews.com
14 नवम्बर 2022

भागलपुर : बिहार के भागलपुर जिले के नव धनाढ्य बड़े बिल्डर व अकूत धन-संपत्ति वाले घराने के लोग कोलकाता में बलात्कार के केस में गिरफ्तार हुए और जेल गए, जिसमें मुख्य आरोपी भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष नरेश चंद्र मिश्रा का भतीजा भी है।

गौरतलब है कि नरेश चंद्र मिश्रा 15 वर्षों से मारवाड़ी ब्राह्मण मंडल के अध्यक्ष हैं व इनका घराना बड़े बिल्डर के रूप में शहर में काम करते रहे हैं। बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार योगेश मिश्रा इनके छोटे भाई दिवंगत प्रोफेसर गिरीश मिश्रा जी का इकलौता बेटा है। योगेश मिश्रा शहर का प्रथम बिल्डर रमन साह कुंजलाल गली लेन निवासी और विनोद ढांढनिया अजंता रोड निवासी का बड़ा व्यापारिक पार्टनर भी है। युवा योगेश मिश्रा भागलपुर शहर के युवा हैं, जिसे कोलकाता पुलिस ने बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इसके साथ ही उनके साथ अन्य तीन मारवाड़ी घराने के एवं व्यापारिक घराने के तीन अन्य युवाओं को भी जेल भेजा गया है। नरेश चंद्र मिश्रा भाजपा के कद्दावर नेता सैय्यद शाहनवाज हुसैन के खासम खास माने जाते रहे हैं और भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सहित वर्तमान में भी कार्यसमिति सदस्य हैं। इसके साथ ही उनका सारा परिवार राजनीतिक दलों से जुड़ा हुआ है। योगेश मिश्रा पर लगातार इस तरह के कई केस 3 वर्षों में हो चुका हैं। मालूम हो कि इस युवा बिल्डर पर लगभग 1 वर्ष पूर्व इनके ही एक बिल्डिंग महादेव सिनेमा के निकट अपार्टमेंट में दुकान खरीदी गई। वहीं, मिरजानहाट अलीगंज निवासी मिथलेश झा की पत्नी ने भी कोतवाली थाना भागलपुर में योगेंद्र मिश्रा, विनोद जी एवं उनके पुत्र सहित इनके बॉडीगार्ड पर गंभीर आरोप लगाते हुए एक एफआईआर दर्ज कराई थी। उक्त केस में अभी यह लोग गिरफ्तार नहीं हुए थे और वे जमानत पर ही चल रहे हैं, परंतु युवा मन मान नहीं रहा और परदे के पीछे इन को बर्बाद करने वाले कूटनीतिक लोग इनके युवा मन को लगातार भटकाते हुए इसे अपराधी बनाने पर तुल गए हैं क्या ? मारवाड़ी व्यवसाई समाज में ऐसी गिरती स्थितियों पर जब हमने शहर के कई वरिष्ठ समाजसेवियों से बात की तो उन्होंने अपना नाम नहीं छापने की शर्तों पर कहा कि जैसी करनी वैसी भरनी, वैसे भी अगर हमलोगों ने अपने बच्चों को शिक्षा के साथ संस्कार और आचरण भी सिखाया होता तो आज हम लोगों को फेसबुक, इंस्टाग्राम बगैरह पर एवं सोशल मीडिया में अपने ही बच्ची/बच्चों और घर के लोगों की ऐसी आपत्तिजनक स्थिति देखने को सरेआम नहीं मिलती, परंतु क्या करें, जैसा खिलाया अन्न वैसा हो रहा बच्चों का मन। हां, वैसे भी बता दें कि खुद नरेश चंद्र मिश्रा भी हत्या के आरोप में केस में जेल की सजा काट चुके है, मारवाड़ी व्यवसायियों ने एवं कई तरह के सामाजिक धार्मिक संगठनों के लोगों और कार्यकर्ताओं ने ऐसे कुकृत्य का निंदा किया है।

गौरतलब है कि कोलकाता के लेक टाउन, कस्बा और चिंगारीघाटा से रातभर की छापेमारी में शुक्रवार को चार युवकों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें से दो छात्र थे। राजारहाट के एक प्रीमियम रिसॉर्ट में गुरुवार की तड़के जन्मदिन की पार्टी मनाई गई थी। बारासात की एक अदालत ने शनिवार को चारों आरोपियों को सात दिन की पुलिस हिरासत में जेल भेज दिया।

दक्षिण कोलकाता की रहने वाली बलात्कार पीड़िता शुक्रवार को एक स्थानीय पुलिस स्टेशन शिकायत दर्ज करने के लिए पहूंची थी। वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने उसे तुरंत राजारहाट पुलिस थाने ले गई, जिसके अधिकार क्षेत्र में अपराध स्थल स्थित था। रात करीब 8:30 बजे प्राथमिकी दर्ज कराने के बाद पुलिस बूकिंग की जानकारी और सीसीटीवी फुटेज की जांच के लिए उक्त रिसॉर्ट में गई और फिर आरोपियों को पकड़ने के लिए शहर भर में छापेमारी की।

गिरफ्तार किए गए लोगों में स्थाई तौर पर भागलपुर और वर्तमान कस्बा निवासी एक प्रतिष्ठित आईटीईएस कंपनी के कर्मचारी योगेश मिश्रा थे, जिन्होंने अपना 23वां जन्मदिन मनाने के लिए पार्टी दी थी। श्री मिश्रा की एक महिला मित्र ने शिकायतकर्ता को आमंत्रित किया था। गिरफ्तार किए गए अन्य लोगों में कस्बा निवासी 21 वर्षीय ऋषिक कुमार, जो एक वैश्विक मास मीडिया कंपनी में प्रशिक्षु हैं और दो छात्र लेक टाउन निवासी डेंट माधव अग्रवाल 20 वर्षीय और टॉलीगंज करुणामयी निवासी सुभम पेरिवाल थे।

बहरहाल, इस तरह के वारदात ने एक बार फिर जहां भागलपुर को कलंकित कर दिया है। वहीं, वैसे सफेदपोश प्रतिष्ठित व्यक्ति भी बेनकाब हुए हैं, जिनकी परवरिश में ऐसे मनचले युवक पलते-बढ़ते हैं।

 3,447 total views,  15 views today