जनपथ न्यूज डेस्क

Reported by: गौतम सुमन गर्जना/भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
21 सितंबर 2022

भागलपुर: महाशय ड्योढ़ी, सुजापुर व सन्हौला पाठकडीह दुर्गा स्थान में जिउतिया के बाद मां दुर्गा की पूजा शुरू हो गयी, जो 16 दिनों तक चलेगी। बांग्ला विधि-विधान से कलश स्थापित की गयी। इसे लेकर गाजे-बाजे के साथ मुख्य पुरोहित समेत सात पंडितों ने गंगा तट पर कलश में जल भरा और दुर्गा स्थान में विधि-विधान से कलश स्थापित की।

*लुटायी गई कौड़ी, बौधन घट स्थापित*
महाशय ड्योढ़ी परिसर में कौड़ी लुटायी गई। कौड़ी लूटने भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। ऐसी मान्यता है कि घर में लूटी कौड़ी रखना शुभ है। इसी दिन बांग्ला बहुल संस्कृतियुक्त मोहल्लों के हर घर में कलश स्थापित किया गया और साथ ही महिलाओं ने एक-दूसरे को सिंदूर लगा कर सुख-समृद्धि के लिए मां दुर्गा का आह्वान किया। कार्यक्रम में पूर्व पार्षद देवाशीष बनर्जी के साथ महाशय परिवार के डॉ० अरविंद घोष, डॉ०शारदा घोष, डॉ०दीपछंदा घोष, मुक्ता घोष, मधु यादव, पुरोहित लाहिड़ी, दिलीप भट्टाचार्य, बप्पा भट्टाचार्य, मिट्ठू आचार्य शामिल हुए।16 दिनों तक होगी पूजा, बांग्ला विधि में भी अलग पूजन पद्धति*

महाशय ड्योढ़ी, सूजापुर व सन्हौला के पाठकडीह की पूजा भी पारंपरिक ढंग से होती है। जिउतिया पर्व के बाद से ही दुर्गा पूजा की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। यह प्रक्रिया बोधन घट निकालने से शुरू होती है, जिसमें देवी दुर्गा को आह्वान किया जाता है। इसमें श्रद्धालु गंगा नदी से कलश में पानी भर कर लाते हैं। फिर इसे पूजा स्थान में स्थापित किया जाता है।

यही प्रक्रिया चतुर्थी व सप्तमी को भी की जाती है। चतुर्थी और सप्तमी को (केला बहू) नौ पत्ते को मां के रूप में गंगा में स्नान करा कर स्थापित की जाती है। सप्तमी के दिन आसपास की महिलाएं पुष्पांजलि करती हैं। अष्टमी को महाभोग व आरती और नवमी को पूजन होता है। दशमी को श्रद्धालु पूजन के बाद मैया की प्रतिमा विसर्जित करते हैं। प्रतिमा विसर्जन के लिए गंगा नदी में नाव पर मां को सात बार चक्कर लगवाया जाता है। इसके बाद महिलाएं सिंदूर खेला करती है और पुरुष एक-दूसरे से मिलते-जुलते हैं।

5 Views