जनपथ न्यूज़ डेस्क
जितेन्द्र कुमार सिन्हा
17 मई 2023

पटना: बागेश्वर धाम के पीठाधीश धीरेंद्र शास्त्री 13 मई से 17 मई तक पांच दिवसीय दौरे पर पटना में हैं। पटना के नौबतपुर स्थित तरेत उनके हनुमंत कथा का आयोजन किया गया है। जहां हनुमंत कथा में, बागेश्वर धाम के पीठाधीश पंडित धीरेंद्र शास्त्री को, लाखों लोग शामिल होकर प्रतिदिन कथा सुना रहे हैं।

पटना के नौबतपुर स्थित तरेत में समय का मिजाज बदल गया है और वहाँ हर व्यक्ति के मुंह से “बजरंगबली की जय” के नारे लग रहे हैं। यह सनातन के लिए एक अच्छे संकेत हैं। कहा जाता है कि रुद्रावतार का नाम किसी भी भाव से प्रत्येक व्यक्ति को लेना चाहिए।नाम लेने का
शुभ फल ईश्वर अवश्य देते है। हनुमान जी की कृपा से अब यह समय आ गया है कि अब सनातन को परिभाषित करने की जरूरत नहीं है। अबलोग अच्छी तरह से जानने लगा है कि सनातन था, है और रहेगा।

बागेश्वर धाम के पीठाधीश धीरेंद्र शास्त्री ने पटना के नौबतपुर स्थित तरेत में हनुमंत कथा के तीसरे दिन कहा कि बिहार की संस्कृति और संस्कार रखें, यही मेरी गुरु दक्षिना होगी। उन्होंने कहा है कि अपने दिल से हनुमान जी के लिए प्यार और पूजा भक्ति में कभी कमी नहीं कीजिएगा। उन्होंने कहा कि बिहार से ही हिन्दू राष्ट्र की ज्वाला जलेगी।

राजनीतिक पार्टियों के फेरे में कुछ लोग तनाव पैदा कर देते हैं। अब ऐसे लोगों को कौन समझाए, ये लोग जनता को मूर्ख बनाने के लिए और भाईचारा बिगाड़ने के लिए ही ऐसा करते है। अब देखा जाय तो लगता है कि बाबा बागेश्वर को घेरने की तैयारी में पटना पुलिस भी शामिल हो रही है। यह चर्चा जोड़ो पर है कि धीरेंद्र शास्त्री को रोक पाने में नाकाम रही महागठबंधन की सरकार अब उन्हें दूसरे तरीकों से परेशान करने की फिराक में है। बिहार की ट्रैफिक पुलिस बाबा बागेश्वर पर जुर्माना लगाने की तैयारी कर रही है। पटना की ट्रैफिक पुलिस यह जांच कर रही है कि बाबा बागेश्वर और सांसद मनोज तिवारी ने पटना एयरपोर्ट से पनाश होटल जाने के दौरान सीट बेल्ट लगाया था या नहीं। पटना के ट्रैफिक एसपी ने इसके जांच के आदेश दिए हैं।

धीरेंद्र शास्त्री नौबतपुर के तरेत में आयोजित कार्यक्रम में हनुमंत कथा लाखों लोगों को सुना रहे हैं और हनुमान जी के माध्यम से पर्ची निकाल रहे हैं। हनुमान जी जिसका अर्जी सुनते हैं उसका पर्ची निकलता है। 16 मई (मंगलवार) को बाबा बागेश्वर पटना जक्शन स्थित महावीर मंदिर पहुंच कर बजरंगबली जी के दरबार में हाजिरी लगाई। उन्होंने मंदिर में पूजा अर्चना की और दर्शन किए। इस दौरान मंदिर में उपस्थित भक्तों की भारी भीड़ बागेश्वर सरकार की एक झलक पाने के लिए लोग उतावले हो गये।

बागेश्वर धाम के पीठाधीश धीरेंद्र शास्त्री का पूरा नाम धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री गर्ग है। उनका जन्म छत्तरपुर जिले के गढ़ा गाँव में 05 जुलाई 1996 को सामान्य परिवार में हुआ था। बचपन में वे रामचरितमानस और सत्यनारायण कथा सुनाकर जीविकोपार्जन करते थे। उन्हें हनुमान जी और सन्यासी बाबा के आशीर्वाद से सिद्धियाँ प्राप्त है। वे इन शक्तियों का इस्तेमाल जन कल्याण, मानव सेवाहितार्थ कामों और मानसिक, शारीरिक समस्याओं के निदान में करते है।

बिहार की राजधानी पटना पधारे बाबा के आराध्य हनुमान जी का चमत्कार अभी बहुत कुछ दिखाया जा रहा है। उनका कहना है कि हनुमान जी किसी को नहीं छोड़ने वालेहै, ना दुष्ट को छोड़ सकते हैं और ना ही अपने भक्तों को। उन्हें सिर्फ महसूस किया जाता है, जिसे आप भी महसुस कीजिए। वैसे भी राक्षस प्रवृत्ति के लोगों की कमी आदिकाल से नहीं रही है। ऐसे लोग किसी पार्टी के नहीं होते और ना ही किसी धर्म के होते हैं।

आचार्य धीरेंद्र शास्त्री उर्फ बागेश्वर बाबा का दिव्य दरबार पटना के नौबतपुर में तरेत परिसर में लग रहा है, जहां लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं प्रतिदिन आ रहे है। इस दौरान बाबा ने करीब कई लोगों का पर्ची भी निकाल रहे है, जिसके जरिए बाबा ने दावा किया है कि हनुमान जी की आशीर्वाद से श्रद्धालुओं की मनोकामना पूर्ण होगा। बाबा ने कई लोगों के पर्ची निकाल कर उनके नाम और उनकी इच्छाओं को, पर्ची में पढ़ कर बता दिया कि उनके मन में क्या चल रहा है जिसको सुनकर लोग हैरान रह गए। बाबा ने दावा किया कि वह हनुमान जी के माध्यम से पर्ची निकालते हैं। हनुमान जी जिसका अर्जी सुनते हैं, उसका पर्ची निकलता है, उसका कल्याण होता है।

 87 total views,  6 views today