*कहा- सत्ता के लिए कांग्रेस की गोद में बैठ गये नीतीश और कहते हैं कि जेपी आंदोलन की उपज हैं….*

जनपथ न्यूज डेस्क
Reported by: गौतम सुमन गर्जना, भागलपुर
Edited by: राकेश कुमार
12 अक्टूबर 2022

भागलपुर/पटना : देश के गृह मंत्री अमित शाह और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ मंगलवार को जयप्रकाश नारायण की जन्म स्थली सिताब दियारा पहुंचे। वहां जय प्रकाश नारायण की प्रतिमा का अनावरण किया और फिर एक विशाल जनसभा को उन्होंने संबोधित किया। सभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सत्तालोलुप बताते हुए कहा कि सत्ता में बने रहने के लिए नीतीश कुमार ने जेपी के सिद्धांतों की तिलांजली दे दी और कांग्रेस के गोद में बैठ गये हैं।

जय प्रकाश के सिद्धांतों को साकार कर रहे पीएम मोदी : सिताब दियारा में आयोजित कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि वे जब बहुत छोटे थे तो एक नारा सुने थे-अंधेरे में एक प्रकाश…जयप्रकाश-जयप्रकाश। उसी नारे पर गुजरात और बिहार के युवा सत्ता परिवर्तन को लेकर एकजुट हुए थे। इसके साथ ही संपूर्ण क्रांति का नारा भी दिया गया था। संपूर्ण क्रांति के नारे को किसी भी कांग्रेसियों ने सफल बनाने का काम नहीं किया, लेकिन इस काम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करके यह साबित कर दिखाया है कि वे जेपी के सच्चे अनुयायी हैं। अमित शाह ने कहा कि हमारी सरकार ने देश भर के सात करोड़ गरीबों के जीवन स्तर को ऊपर लाने का काम किया है।

जेपी आंदोलन की उपज वाले नेता आज कांग्रेस की गोद में : अमित शाह ने कहा कि 1974 में जयप्रकाश नारायण ने बिहार में आंदोलन शुरू किया था, वह राजनीतिक आंदोलन था। सारे विचारधारा के छात्र जेपी की अगुवाई में इकट्ठा हुए थे। सुशील मोदी जी यहां बैठे हैं, सुशील मोदी भी उसी आंदोलन की उपज हैं। उसी आंदोलन के कई अन्य अनुयायी हैं, जो जीवन भर जेपी जी और लोहिया जी का नाम लेते रहे हैं और जो जेपी आंदोलन से उपजे नेता हैं, वे सिर्फ सत्ता काबिज रहने के लिए आज कांग्रेस की गोदी में जा बैठे हैं। अमित शाह ने जनसभा में उपस्थित लोगों से पूछा कि क्या आप उनसे सहमत हैं…? क्या यह जयप्रकाश जी के सिद्धांतों की राजनीत है..? जयप्रकाश ने जीवन भर सत्ता के लिए कुछ नहीं किया, सिर्फ सिद्धांत की राजनीति की है। अमित शाह ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि आज सत्ता के पांच-पांच बार पाला बदलने वाले लोग बिहार के मुख्यमंत्री बनकर बैठे हुए हैं। बिहार की जनता को अब तय करना है कि जयप्रकाश के दिखाए हुए रास्ते पर चलने वाली नरेंद्र मोदी वाली भाजपा चाहिए या जयप्रकाश के रास्ते से भटक कर चोर दरवाजे वाले लोग।

जेपी की जन्म स्थली पर बनेगा रिसर्च सेंटर : अमित शाह ने कहा कि जेपी के विचार से प्रभावित होकर नौजवान उनके अनुयाई बनें, इसके लिए उनके जन्मस्थली पर प्रतिमा बनाई गई है। जेपी के सिद्धांतों के लिए उनके गांव के अंदर स्मारक बनाया गया है और यहां पर रिसर्च सेंटर भी बनने वाला है। यहां पर विद्यार्थियों के लिए रिसर्च की सुविधा भी मिलने वाली है। जेपी का सिद्धांत ग्रामीण विकास का सिद्धांत कैसे आगे बढ़ाया जाए, इसका बहुत बड़ा स्थान यहां बनने वाला है। जयप्रकाश ने कई क्षेत्रों में बहुत योगदान दिया है। आज जेपी की जयंती है और देशभर में लोग जयप्रकाश नारायण को याद कर रहे हैं। जेपी के सिद्धांतों को हम जिंदा रखेंगे तो देश को आगे बढ़ाने की युवा शक्ति प्राप्त होगी‌ और इस युवा शक्ति से ही देश की अस्मिता सुरक्षित रह सकती है।.

 318 total views,  3 views today