जनपथ न्यूज डेस्क/पटना

Reported by: जितेन्द्र कुमार सिन्हा
Edited by: राकेश कुमार
15 अक्तूबर 2022

जद(यू) के राष्ट्रीय सचिव राजीव रंजन प्रसाद ने बढ़ती महंगाई के लिए केन्द्र (मोदी) सरकार को जवाबदेह ठहराते हुए कहा है कि उनकी आर्थिक नीतियों की असफलता ने आम लोगों की जिन्दगी अत्यंत कठिन बना दी है। थोक एवं खुदरा मूल्य सूचकांक आसमान छू रहे हैं।चावल, आटा, सब्ज़ियाँ, डाल, खाद्य तेल, निबु जैसी सामग्रियों की कीमतें अप्रत्याशित रूप से बढ़ी हैं।

उन्होंने कहा कि वहीं, एफसीआई के अनुसार गेहूं और चावल का बफर स्टॉक न्यूनतम सीमा से थोड़ा ही ज्यादा है। अभी इन दोनो का स्टॉक 511.4 लाख टन है जो इसी समय पिछले वर्ष 816 लाख टन था। स्पष्ट है कि लोगों की आवश्यकताओं को अगले तीन माह के बाद पूरा करने में सक्षम नहीं है। दूसरी तरफ डीजल पेट्रोल एवं एलपीजी की कीमतों में कमरतोड़ बढ़ोतरी से लोग पहले से ही परेशान हैं।

श्री प्रसाद ने कहा कि घटता विदेशी मुद्रा भंडार एवं रुपए के अवमूल्यन से भी भारत की बदहाल अर्थव्यवस्था से स्पष्ट संकेत मिल रहे हैं, केन्द्र सरकार इसकी बेहतर उपाय की रणनीति तैयार करने के जगह राजनीतिक कर रही है और विरोधियों को केन्द्रीय एजेंसियों के माध्यम से साधने में लगी हुई है।

उन्होंने कहा कि देश में हिंदू-मुसलमान, बाइबिल -हिजाब एवं मदरसों की चर्चा करके भाजपा अपनी नाकामियों से लोगों का ध्यान भटका रही है।

उक्त बातें श्री प्रसाद ने पटना के कच्ची तालाब स्थित सरिस्ताबाद में जद(यू) सदस्यता अभियान के दौरान कही। इस दौरान ई राजेंद्र यादव, नागेंद्र कुमार, मुकेश यादव, सागर यादव, विनीत यादव, शोभा देवी, एजाज अहमद, डॉक्टर सुनिता बिंद, कंचनमाला चौधरी, पीयूष श्रीवास्तव, प्रणव पंकज सिन्हा, अरुण कुमार सिंह, नौशाद खान, सुरईया अख्तर, खुशबू कुमारी, कंचनमाला चौधरी, माधुरी पटेल, अरुण कुमार सिंह, वंदना सिन्हा उषा देवी, सरोज देवी, गुड़िया देवी, प्रसून श्रीवास्तव सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

 143 total views,  3 views today