जनपथ न्यूज़ :- पणजी: गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार को निधन हो गया। वह अग्नाशय के कैंसर से जूझ रहे थे। पर्रिकर के निधन के बाद केंद्र सरकार ने 18 मार्च को राष्ट्रीय शोक का ऐलान कर दिया है। सोमवार को सुबह 11 बजे उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए केंद्रीय कैबिनेट की बैठक बुलाई गई है। कैबिनेट की बैठक के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर्रिकर को श्रद्धांजलि देने गोवा जाएंगे। वहीं, गोवा में 18 मार्च से 24 मार्च तक 7 दिनों का राजकीय शोक घोषित किया गया है। इस दौरान पूरे प्रदेश में राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा।
रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोमवार को शाम 5 बजे पर्रिकर का अंतिम संस्कार किया जाएगा। इससे पहले सुबह 9.30 बजे से 10.30 बजे पणजी में स्थित भारतीय जनता पार्टी के दफ्तर में उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। इसके बाद सुबह 10.30 बजे पर्रिकर के पार्थिव शरीर को कला अकादमी लाया जाएगा, जहां पर शाम 4.00 बजे तक आम लोग अपने चहेते नेता को श्रद्धांजलि दे सकेंगे। मीरामार में शाम 5 बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह शाम को पर्रिकर के अंतिम संस्कार में शामिल होंगे।
पर्रिकर के निधन के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण समेत देश की कई गणमान्य हस्तियों ने शोक प्रकट किया है। उन्हें एक ऐसे शख्स के रूप में याद किया जा रहा है जो सादगी और कर्मठता की प्रतिमूर्ति थे। पर्रिकर अपने पीछे दो बेटे छोड़ गए हैं। उनके दोनों बेटे राजनीति से दूर हैं। उनके बेटे उत्पल पेशे से इंजिनियर हैं जबकि अभिजीत खुद का बिजनस करते हैं।
देशभर में राष्ट्रीय शोक की घोषणा, गोवा में स्कूल, कॉलेज और ऑफिस बंद
मुख्यमंत्री कार्यालय के अनुसार, उनका पार्थिव शरीर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कार्यालय और प्रदेश के कला-संस्कृति केंद्र में सुबह एवं दोपहर में रखा जाएगा, ताकि लोग उनके अंतिम दर्शन कर सकें और श्रद्धांजलि दे सकें। इसके बाद पार्थिव शरीर को अंत्येष्टि के लिए शाम 5 बजे गोवा खेल प्राधिकरण के मैदान में ले जाया जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सोमवार को राष्ट्रीय शोक और राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि की घोषणा की है। पार्टी सूत्रों ने कहा कि रक्षा मंत्री रहे पर्रिकर की अंत्येष्टि में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के शामिल होने की उम्मीद है।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट किया है, ‘‘गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन की सूचना पाकर शोकाकुल हूं।’’ उन्होंने कहा कि पर्रिकर बेहद साहस और सम्मान के साथ अपनी बीमारी से लड़े। उन्होंने लिखा है कि सार्वजनिक जीवन में वह ईमानदारी और समर्पण के मिसाल हैं और गोवा और भारत की जनता के लिए उनके काम को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘मनोहर पर्रिकर बेमिसाल नेता थे। एक सच्चे देशभक्त और असाधारण प्रशासक थे, सभी उनका सम्मान करते थे। देश के प्रति उनकी निस्वार्थ सेवा पीढ़ियों तक याद रखी जाएगी। उनके निधन से बहुत दुखी हूं। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदनाएं। शांति।’’ मोदी ने कहा कि जब पर्रिकर रक्षा मंत्री थे तो भारत ने कई फैसले लिए जिसने देश की सुरक्षा क्षमताओं को बढ़ाया, स्वदेशी रक्षा उत्पादन बढ़ाया और पूर्व सैनिकों के जीवन को बेहतर बनाया।
भाजपा अध्यक्ष शाह ने कहा कि पर्रिकर ने दिखाया कि कैसे भाजपा का एक कार्यकर्ता ‘‘उसके सबसे कठिन समय में भी, राष्ट्र सर्वप्रथम, फिर पार्टी और स्वयं को अंत में रखने के सिद्धांत पर अटल रहता है।’’ शाह ने कहा, ‘‘मनोहर पर्रिकर का निधन बेहद दुखदायी है। उनके रूप में भारत ने एक सच्चा देशभक्त खोया है जिसने निस्वार्थ भाव से अपना पूरा जीवन देश और सिद्धांतों के हवाले कर दिया। जनता के प्रति पर्रिकर का समर्पण और उनका कर्तव्य अनुकरणीय है। भारत के रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री के रूप में उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा।’’ उन्होंने ट्वीट किया है, ‘‘भाजपा के लाखों कार्यकर्ताओं और खास तौर से गोवा के लोगों के प्रति मैं संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। गोवा के लोग उनके परिवार जैसे थे। ईश्वर उनके परिवार को यह आघात सहन करने की शक्ति दे। ओम शांति शांति शांति।’’
रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा कि सशस्त्र बलों को ताकतवर और आधुनिक बनाने में उनका योगदान अद्वितीय है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मनोहर पर्रिकर नहीं रहे। निष्कपट, ईमानदार और संवेदनशील राजनीतिक कार्यकर्ता। वह सरल और जमीन से जुड़े थे, मैंने पर्रिकर से बहुत कुछ सीखा है। रक्षा मंत्री के तौर पर सशस्त्र बलों को आधुनिक और ताकतवर बनाने में उनका योगदान अद्वितीय है।’’
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया है, ‘‘गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन की सूचना से मैं बहुत दुखी हूं। वह एक साल तक पूरे साहस से अपनी बीमारी से लड़ते रहे। दलगत राजनीति से इतर सभी उनका मान-सम्मान करते थे और वह गोवा के चहेते थे। दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिजन के साथ हैं।’’ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि वह सिर्फ एक बार पर्रिकर से मिली थीं, जब दो साल पहले वह अस्पताल में सोनिया गांधी से मिलने आए थे। ‘‘ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।’’ राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया है, ‘‘गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन से शोकाकुल हूं। मेरी गहरी संवेदनाएं उनके परिजन के साथ हैं… ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।’’ कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया है, ‘‘गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन की सूचना से बहुत दुखी हूं। उनका स्वभाव मित्रवत था और सभी उनका सम्मान करते थे। मेरी संवेदनाएं उनके परिजन और मित्रों के साथ है।’’
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने शोक-संदेश में कहा है कि मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर एक प्रख्यात राजनेता एवं प्रसिद्ध समाजसेवी थे। देश के रक्षा मंत्री के रूप में भी उनका बहुमूल्य योगदान रहा है। उनके निधन से न केवल गोवा बल्कि पूरे देश के राजनीतिक एवं सामाजिक क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुई है। आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चन्द्रबाबु नायडू ने रविवार को गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन पर शोक व्यक्त किया। शोक संदेश में उन्होंने कहा कि आईआईटी से पढ़ाई पूरी कर राजनीति में आए पर्रिकर ने गोवा के लिए अनुकरणीय काम किया है। उनकी सेवा को हमेशा याद रखा जाएगा।
पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवेगौड़ा और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच. डी़ कुमारस्वामी ने भी शोक जताया है। जद (एस) प्रमुख गौड़ा ने ट्वीट किया है, ‘‘मनोहर पर्रिकर के निधन से बहुत दुखी हैं। ईश्वर उनके परिवार को यह आघात सहने की शक्ति दे।’’ कुमारस्वामी ने ट्वीट किया है, गोवा के मुख्यमंत्री के निधन की खबर से बहुत दुखी हूं। उनका सभी मान-सम्मान करते थे। मेरी संवेदनाएं उनके परिजन, मित्र और प्रियजनों के साथ हैं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।
केन्द्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल, महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी सहित तमाम मंत्रियों ने पर्रिकर के निधन पर शोक जताया है। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, नेशनल कांफ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने भी पर्रिकर के निधन पर शोक जताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.