जनपथ न्यूज़:- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में आज पहली बार ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संबोधित किया. उन्होंने इस कार्यक्रम में जल संरक्षण पर जोर दिया.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि एक लंबे अंतराल के बाद आपके बीच मन की बात, जन-जन की बात, जन-मन की बात इसका हम सिलसिला जारी कर रहे हैं. चुनाव की आपाधापी में व्यस्तता तो ज्यादा थी लेकिन मन की बात का मजा ही गायब था, एक कमी महसूस कर रहा था. हम 130 करोड़ देशवासियों के स्वजन के रूप में बातें करते थे.
पीएम मोदी ने कहा कि ‘मन की बात के इस अल्पविराम के कारण जो खालीपन था, केदार की घाटी में, उस एकांत गुफा में, कुछ भरने का अवसर जरूर दिया, जैसे केदार के विषय में लोगों ने जानने की इच्छा व्यक्त की, वैसे एक सकारात्मक चीजों को बल देने का आपका प्रयास, आपकी बातों में लगातार मैं महसूस करता हूं.
पीएम मोदी ने कहा कि मन की बात के लिए जो चिट्ठियां आती हैं, एक प्रकार से वह भी मेरे लिये प्रेरणा और ऊर्जा का कारण बन जाती है. कभी-कभी तो मेरी विचार प्रक्रिया को धार देने का काम आपके कुछ शब्द कर देते हैं.
पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें काफी चिट्ठियां आती हैं, टेलीफोन कॉल आते हैं, सन्देश मिलते हैं, लेकिन उनमें शिकायत का तत्व बहुत कम होता है और किसी ने कुछ अपने लिए मांगा हो, ऐसी बात, गत पांच वर्ष में उनके ध्यान में नहीं आती है.
पीएम मोदी ने कहा कि जब देश में आपातकाल लगाया गया तब उसका विरोध सिर्फ राजनीतिक दायरे तक सीमित नहीं रहा था, राजनेताओं तक सीमित नहीं रहा था, जेल के सलाखों तक, आंदोलन सिमट नहीं गया था. जन-जन के दिल में एक आक्रोश था. खोए हुए लोकतंत्र की एक तड़प थी. दिन रात जब समय पर खाना खाते हैं तब क्या भूख क्या होती है इसका पता नहीं होता है वैसे ही सामान्य जीवन में लोकतंत्र के अधिकारों की क्या मजा है वो तब पता चलता है जब कोई लोकतांत्रिक अधिकारों को छीन लेता है. आपतकाल में, देश के हर नागरिक को लगने लगा था कि उसका कुछ छीन लिया गया है.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मन की बात कार्यक्रम में प्रेमचंद्र की कहानी ‘ईदगाह’, ‘पूस की रात’ और ‘नशा’ का जिक्र किया और कहा कि हमें किताबें पढ़नी चाहिए.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि भारत में 61 करोड़ से ज्यादा लोगों ने वोट दिए, दुनिया के हिसाब से चीन को छोड़ कर किसी भी देश की आबादी से ज्यादा लोगों ने वोट किया. यह हमारे लोकतंत्र की विशालता और व्यापकता का परिचय कराता है.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जल संकट को लेकर सामूहिक भागीदारी की अपील की. उन्होंने कहा कि सामूहिक प्रयास से बड़े सकारात्मक परिणाम प्राप्त हो सकते हैं. पूरे देश में जल संकट से निपटने का कोई एक फॉर्मूला नहीं हो सकता है. इसके लिए देश के अलग-अलग हिस्सों में, अलग-अलग तरीके से प्रयास किये जा रहे हैं. लेकिन सबका लक्ष्य एक ही है, और वह है पानी बचाना, जल संरक्षण. जब हम एकजुट होकर, मजबूती से प्रयास करते हैं तो असंभव को भी संभव कर सकते हैं जब जन-जन जुड़ेगा, जल बचेगा.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम स्वागत सत्कार में फूलों के बजाय किताबें दें. उनके इस आग्रह पर काफ़ी जगह लोग अब उन्हें किताबें देने लगे हैं. मुझे हाल ही में किसी ने ‘प्रेमचंद की लोकप्रिय कहानियां’ नाम की पुस्तक दी. प्रवास के दौरान मुझे उनकी कुछ कहानियां फिर से पढ़ने का मौका मिल गया. प्रेमचंद ने अपनी कहानियों में समाज का जो यथार्थ चित्रण किया है, पढ़ते समय उसकी छवि आपके मन में बनने लगती है.’
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नशा नाम की कहानी पढ़ते समय मेरा मन अपने-आप ही समाज में व्याप्त आर्थिक विषमताओं पर चला गया. मुझे अपनी युवावस्था के दिन याद आ गए कि कैसे इस विषय पर रात-रात भर बहस होती थी.
पीएम मोदी ने कहा कि मुझे और एक बात के लिए भी आपका और दुनिया के लोगों का आभार व्यक्त करना है. 21 जून को फिर से एक बार योग दिवस में उमंग के साथ, एक-एक परिवार के तीन-तीन चार-चार पीढ़ियां, एक साथ आ करके योग दिवस को मनाया.
23 मई को घोषित नतीजों में भारी बहुमत हासिल करने के बाद अपने दूसरे कार्यकाल में पीएम मोदी अब फिर से इस कार्यक्रम की शुरुआत करने जा रहे हैं। इस कार्यक्रम के बारे में उन्होंने ट्वीट कर देश की जनता को जानकारी भी दी है। वहीं भाजपा ने भी ब्‍लॉक स्‍तर पर मोदी की मन की बात पहुंचाने की व्‍यवस्‍था की है। दिल्ली में द्वारका के ककरोला स्टेडियम में गृहमंत्री अमित शाह सुनेंगे पीएम की मन की बात, तो बीजेपी कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा करोल बाग में मन की बात सुनेंगे।
बता दें कि चुनाव प्रचार शुरू करने से पहले पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ में ही कहा था कि चुनावों में व्यत होने की वजह से वह कुछ दिनों तक ‘मन की बात’ कार्यक्रम नहीं कर पाएंगे लेकिन चुनाव जीतने के बाद वह फिर वापस इसे करें। आज पीएम मोदी अपने इसी वादे को पूरा करने वाले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.