जनपथ न्यूज़:- लोकसभा के नए स्पीकर का आज चुनाव हो गया. राजस्थान के कोटा से दूसरी बार सांसद बने ओम बिड़ला को लोकसभा का नया स्पीकर चुना गया. सोमवार को बीजेपी संसदीय दल की बैठक में इनके नाम पर मुहर लगी थी. ओम बिड़ला वैश्य समाज से ताल्लुक रखते हैं. भाजपा के ओम बिड़ला 17वीं लोकसभा के अध्यक्ष चुने गए.
बुधवार को कार्यवाही शुरू होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके नाम का प्रस्ताव रखा, जिसे कांग्रेस समेत कई दलों के सांसदों ने समर्थन दिया. इसके बाद मोदी खुद उन्हें चेयर तक लेकर आए. प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे डर है कि बिड़लाजी की नम्रता और विवेक का कोई दुरुपयोग न कर ले. कोटा-बूंदी से सांसद बिड़ला ने मंगलवार को अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था.

मोदी ने कहा कि ओम बिड़ला को इस पर आसीन देखना गर्व की बात है. पुराने सदस्य आपसे भली-भांति परिचित हैं. राजस्थान में भूमिका से भी लोग परिचित हैं. वे जहां से आते हैं, वो शिक्षा का काशी बन गया है. कोटा एक प्रकार से लघु भारत बन गया है. हम लोगों की एक छवि बनी रहती है कि 24 घंटे हम राजनीति करते हैं, तू-तू-मैं-मैं करते हैं. लेकिन अब हार्डकोर्ड पॉलिटिक्स का जमाना जा रहा है. बिड़लाजी की पूरी कार्यशैली समाजसेवा पर केंद्रित रही. गुजराज में जब भूकंप आया तो वे लंबे समय तक अपने इलाके के साथियों के साथ वहां रहे. जब केदारनाथ हादसा हुआ तो अपनी टोली के साथ वहां भी समाजसेवा में लग गए.

बिड़ला एक प्रसादम नाम की योजना चलाते हैं जिसमें गरीबों को खाना खिलाया जाता है. एक प्रकार से उन्होंने अपना केंद्र बिंदु जन आंदोलन से ज्यादा जनसेवा को बनाया. वे हमें अनुशासित करेंगे. मुझे विश्वास की सदन में वे उत्तम तरीके से चीजों को कर पाएंगे. मुझे डर है कि उनकी नम्रता और विवेक का कोई दुरुपयोग न कर ले. हम जब पिछले सत्र को याद करेंगे तो सुमित्रा जी का हमेशा मुस्कुराना और स्नेह से डांटना याद आएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.