टापू बने 60 गांव, 600 घरों में घुसा बाढ़ का पानी, दहशत में ग्रामीण, शहजादपुर के दो स्कूलों में बंद हुई पढ़ाई

Breaking News ताजा खबरें राज्य

जनपथ न्यूज़ : जिले के दियारा व ग्रामीण इलाकों में बाढ़ व कटाव का कहर जारी है। 60 से अधिक गांव बाढ़ से घिर टापू बन गये हैं। गंगा के जलस्तर में लगातार हो रही वृद्धि से 600 से अधिक घरों में बाढ़ का पानी आ गया है। सुल्तानगंज के छह गांव बाढ़ से घिर गए हैं। नारायणपुर के शहजादपुर पंचायत के दो स्कूलों में बाढ़ का पानी आ गया है। सबौर के रामनगर में कटाव का कहर जारी है। सबौर व आसपास के 50 गांवों में गंगा का पानी प्रवेश कर गया है। नवगछिया के खगड़ा पंचायत में बाढ़ का पानी आ गया है। कहलगांव में गंगा खतरे के निशान से 25 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है।मदरौनी व कोशकीपुर सहोड़ा के कई गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि जारी रहने से जिले का दियारा व निचला इलाका में बाढ़ से घिर टापू बन गया है। सुल्तानगंज के छह गांव बाढ़ से घिर गये हैं। गनगनिया पंचायत के मुखिया ओम प्रकाश पासवान ने बताया कि घोरघट, गनगनिया एवं फतेहपुर के निचले इलाके में पानी घुस आया है।तथा कुछ लोगो के घरों के अंदर पानी प्रवेश कर गया है।इधर आरजेडी युवा प्रखंड अध्यक्ष नट बिहारी मंडल ने बताया कि तिलकपुर पंचायत के उत्तरी टोला,महेशी पंचायत के मोतीचक एवं कल्याणपुर गांव बाढ़ का पानी से चारों ओर से घिर गया है। दो दर्जन से अधिक लोगों के घरों के अंदर पानी प्रवेश कर गया है। बीडीओ प्रभात रंजन ने बताया कि तीव्र गति से पानी में वृद्धि हो रही है।अगर यही रफ्तार रही तो चौबीस घंटे के अंदर कई गांव बाढ़ की चपेट में आ जाएगा।बीडीओ ने बताया मोतीचक व कल्याणपुर गांव का मुख्य सड़क से संपर्क भंग हो चुका है।आने-जाने के लिए नाव की व्यवस्था करायी गयी है।तथा प्रशासनिक स्तर पर लोगो को सुरक्षित रखने की व्यवस्था की गई है।ऊंचे स्थानों पर ले जाने हेतु तत्काल दो नाव की भी अलग से व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि जैसे ही लोगों को उनके घरों से बाहर निकाल सुरक्षित जगह पर ले जाया जाएगा।वहां तुरंत ही राहत शिविर एवं अन्य व्यवस्था प्रारंभ करा दिया जाएगा।

दियारा में डूबी फसलें, सब्जी की खेती भी हुई बर्बाद : अकबरनगर दियारा के बहियार के इलाकों में गंगा के पानी के जलस्तर में लगातार बढ़ोतरी होने से अकबरनगर तथा आसपास के इलाकों में सैकड़ों किसानों की फसल डूब गई है। गंगा का पानी आ जाने से किसानों के खेत में लगी धान तथा मकई की फसलें डूब गयीं हैं ।अगर पानी का जलस्तर कम नहीं होता है तो इस बार भी धान की फसल देखने को नहीं मिलेगी।सुल्तानगंज बीडीओ को कल्याणपुर मोतीचक में बाढ़ पीड़ितों की नाराजगी झेलनी पड़ी है। भवनाथपुर,छींट मकंदपुर,गंगापुर,मकंदपुर,पैन सहित कई इलाकों में बाढ़ का पानी घरों में घुसने की कगार पर है।

सबौर और नवगछिया के कई गांवों में बाढ़ , बांधों पर पानी का भारी दबाव

सुल्तानगंज के मोतीचक में बाढ़ के पानी से बाहर आती महिला ।

नवगछिया में बाढ़ हुई विकराल, 500 घर चपेट में

नवगछिया | गंगा एवं कोसी नदी के जलस्तर में वृद्धि होने के बाद अनुमंडल के कहीं गांव जहां बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। वही कई गांव कटाव के मुहाने पर आ गया है। रंगरा प्रखंड के मदरौनी एवं कोशकीपुर सोहरा पंचायत कोसी नदी के बाढ़ से प्रभावित हो गया है। जबकि तिनटंगा दियारा दक्षिण पंचायत के पास गंगा नदी का भीषण कटाव शुरू हो गया है। गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि के बाद इस्माइलपुर प्रखंड के कई गांव बाढ़ की चपेट में आ गए। गंगा एवं कोसी नदी के जलस्तर में वृद्धि के बाद अनुमंडल के विभिन्न गांवों में आई बाढ़ एवं गंगा नदी के कटाव को लेकर एसडीओ मुकेश कुमार ने शुक्रवार को प्रभावित क्षेत्रों का स्थलीय निरीक्षण किया।

नारायणपुर के दियारा क्षेत्र में फैला बाढ़ का पानी

नारायणपुर| प्रखंड के शहजादपुर पंचायत के प्राथमिक विद्यालय अमरी व नुरूद्दीनपुर में गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि से पानी आ गया है। जिससे वहां का पठन पाठन बंद हो गया है। पंचायत पूरी तरह बाढ़ से घिर गया है ।बीडीओ अजय प्रकाश राय ने मुखिया रूपेश कुमार के साथ इसका जायजा लिया है। शुद्ध पेयजल, शौचालय की अस्थाई व्यवस्था सहित मवेशी के चारे की व्यवस्था की मांग ग्रामीणों ने की है। सड़क किनारे पर रह रहे लोगों के लिए प्लास्टिक के वितरण की मांग की गई है।

रामनगर में कटाव शुरू, फरका बांध पर खतरा

सबौर| भागलपुर में भी गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। सबौर सहित आसपास के पचास से अधिक गांवों में गंगा का पानी प्रवेश कर गया है। रामनगर में कटाव ने विकराल रूप ले लिया है। इंग्लिश फरका गांव स्थित पुराने बांध पर खतरा मंडराने लगा है। बाढ़ के डर से प्रशासन ने संतनगर और बगडेर बगीचे के लोगों को सबौर प्रखंड कार्यालय स्थित पंचायत भवन में शिफ्ट करा दिया है। बीडीओ ममता प्रिया,सीआई प्रमोद तिवारी, समाज सेवी बाबूलाल पोद्दार, ब्रजेश कुमार सिंह, शंकर मंडल, मुखिया राम वरण यादव, राजेंद्र मंडल सहित कई लोग उपस्थित थे। इंग्लिश फरका गांव स्थित पुरानी बांध से पानी के ओवरफ्लो होने से एनएच के दोनों ओर पानी भर गया है। गंगा केे जल स्तर में अगर बढ़ोतरी होती रही तो एनएच पर ट्रैफिक बंद हो सकता है।

गोपालपुर में प्राथमिक विद्यालय कटाव के मुहाने पर, घर खाली कर रहे लोग

गोपालपुर। गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि होने से बिंद टोली में बाढ़ का पानी प्रवेश करने लगा है । जिससे गंगा किनारे बने घरों को लोग खाली करने में लगे हैं । जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता ई शशिधर पांडे ,फ्लड फाइटिंग फोर्स के अध्यक्ष ई. उमाशंकर सिंह ,अधीक्षण अभियंता ई. महेन्द्र प्रसाद, विशेषज्ञ ई. जवाहर प्रसाद व कार्यपालक अभियंता ई. अनिल कुमार ने बिंद टोली में प्राथमिक विद्यालय के निकट बिंद टोली गांव को बचाने की योजन बना रहे हैं। कटाव को रोकने के लिए हाथी पांव तथा एनसी में बालू भरी बोरियां देकर रि स्टोर करने का प्रयास किया जा रहा है। गंगा के कटाव से अब तक दर्जन घर विलीन हो चुका है।

खगड़ा पंचायत के कई घरों में घुसा बाढ़ का पानी, ग्रामीणों ने सीओ को दिया आवेदन

नवगछिया| नवगछिया प्रखंड के खगड़ा पंचायत के कई घरों में गंगा नदी के बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है। वहीं कई वार्ड बाढ़ के पानी से पूरी तरह घिर गया है। गंगा नदी के बाढ़ का पानी घर में प्रवेश कर जाने एवं लोगो का घर पानी से घिर जाने के कारण लोगों को घोर कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। घरो में बाढ़ का पानी प्रवेश कर जाने के बाद ग्रामीणों ने इस संबंध में नवगछिया सीओ को लिखित आवेदन दिया है। ग्रामीणों ने बताया कि 5 सितंबर को उन लोगों के घर मे पानी प्रवेश कर चुका है। हम लोग अपने परिवार के साथ घर के छप्पर पर रह रहे हैं। ग्रामीण पम्मी देवी, रेनू देवी, अरविंद झा, गोविंद झा, महारानी देवी, लक्ष्मण कुमार, पंकज कुमार, अखिलेश कुमार ने राहत वितरण शुरू करने की मांग की है।

कटाव पीड़ितों ने सांसद को सुनाई आपबीती

भास्कर न्यूज, कहलगांव

रानीदियारा,टपुआ दियारा में हो रहे भीषण कटाव को देखने सांसद बुलो मंडल ने इन स्थानों का दौरा किया है। कटाव पीड़ित परिवार से मिलकर उसके दुखों को सांसद ने सुना। साथ ही विभागीय पदाधिकारी से बात कर दो दिनों के अंदर कटावनिरोधी कार्य को प्रारंभ करने का आदेश दिया है। सांसद ने अफसरों को फटकार भी लगाई। उनके साथ अरूण कुमार यादव,प्रखंड अध्यक्ष वासुकीनाथ यादव,रमेश रमन,लव कुमार,पवन भारती,सहित काफी संख्या में राजद कार्यकर्ता थे। कटाव पीड़ित टपुआ और रानीदियारा के लोगों ने उनसे पीरपैंती के अंचलाधिकारी एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी के द्वारा राहत सामग्री के लिए कार्यालय बुला कर नहीं देने का आरोप लगाते हुए शिकायत की। साथ ही उनके द्वारा राहत कार्य जल्द से जल्द देने,कटाव रोकने तथा पुनर्वास के लिए जमीन मुहैया कराने का आग्रह किया। सांसद ने पीरपैंती के सीओ और बीडीओ को भी दो दिनो के अंदर सर्वे कर पीड़ित परिवारों को राहत सामाग्री के वितरण करने का आदेश दिया। वही जनसंवाद को लेकर पीरपैंती कहल गांव विधान सभा के दौरे के दौरान उनका कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया। उन्होंने किसनदासपुर,मोहनपुर गौघटटा,कचहरीया,सुब्बाटोला,टपुआ व रानीदियारा गांव का दौरा कर लोगों से सीधे तौर पर बात की।

गंगा खतरे के निशान से 25 सेंटीमीटर ऊपर बह रही: कहलगांव में गंगा खतरे के निशान से 25 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है। केन्द्रीय जल आयोग के लक्ष्मण कुमार ने बताया कि शुक्रवार को गंगा का जलस्तर 31.30 मीटर है। जो खतरे के निशान से 25 सेंटीमीटर ऊपर है। कहलगांव में गंगा प्रति दो घंटे में एक सेंटीमीटर के हिसाब से बढ़ रही है।

रानी दियारा में कटाव का जायजा लेते सांसद।

रानी दियारा के 70 परिवारों को मिला पॉलिथीन

पीरपैंती | प्रखंड के रानी दियारा गांव में 70 कटाव पीड़ित परिवारों को अंचलाधिकारी नागेंद्र कुमार ने शुक्रवार को पहुंचकर पॉलिथीन का वितरण किया। रानीदियारा व टपुआ में लगातार स्थिति भयावह होते जा रही है । जलसंसाधन विभाग की उदासीनता के कारण गांव के लोग काफी नाराज हैं। कटाव की गति लगातार बढ़ते जा रही है ।ऐसी विकराल स्थिति पैदा होते जा रही है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *