खगड़िया जिला जज ने प्रेम-प्रसंग से नाराज होकर बेटी को घर में किया बंद, हाईकोर्ट ने पेश करने का दिया आदेश

राष्ट्रीय

पटना. पटना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस राजेंद्र मेनन की खंडपीठ ने कहा-’खगड़िया के जिला जज सुभाषचंद्र चौरसिया की नजरबंद बेटी को मंगलवार को दोपहर 2.15 बजे मेरे चैम्बर में पेश किया जाए।’ पटना एसएसपी को स्पेशल टीम बनाने को कहा, जो लड़की को एस्कॉर्ट करके कोर्ट लाएगी। कोर्ट को बताया गया कि प्रेम-प्रसंग के चलते जिला जज ने अपनी बेटी को नजरबंद कर रखा है। ‘बार एंड बेंच’ नामक लीगल पोर्टल की खबर पर स्वत: संज्ञान लेते हुए खंडपीठ ने सोमवार को यह आदेश दिया। इस मामले में कोर्ट ने महिला एडवोकेट अनुकृति जयपुरियार को ‘कोर्ट मित्र’ नियुक्त किया है।

अगली सुनवाई मंगलवार को होगी

– कोर्ट ने पटना के एसएसपी को फौरन स्पेशल टीम बनाने को कहा, जिसमें निश्चित रूप से दो महिला पुलिस अफसर हों। यही टीम मंगलवार को पीड़िता को एस्कॉर्ट करते हुए खगड़िया से पटना हाईकोर्ट लाएगी। मामले की अगली सुनवाई मंगलवार को होगी। कोर्ट में जिला जज के वकील और उनकी बेटी के प्रेमी के वकील ने भी अपना-अपना पक्ष रखा।

जिला जज ने कहा-हमें बदनाम किया जा रहा है, एक पिता की पीड़ा भी सुनिए सर!

जिला जज सुभाषचंद्र चौरसिया के वकील संदीप शाही ने सुनवाई के दौरान अपने मुवक्किल की तरफ से चीफ जस्टिस से कहा-सर, हमें बदनाम किया जा रहा है। हमारे मुवक्किल ने वर्षों तक पूरी निष्ठा से न्यायपालिका की सेवा की है। वो ऐसा काम करने की सोच भी नहीं सकते। एक पिता की पीड़ा को भी सुनने का मौका दीजिए। कोर्ट ने इससे सहमति जताई। कहा-अपनी बेटी को लेकर यहीं आएं। हमने पुलिस की स्पेशल टीम इसलिए बनवाई है, ताकि लड़की किसी दबाव में नहीं आ सके।

6 मई को दिल्ली ज्यूडिशियल सर्विसेज की परीक्षा देने गई थी यशस्विनी, मां ने प्रेमी संग देखा तो परीक्षा भी छुड़वा दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *